जगदीप धनखड़ बने राजग के उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 16 जुलाई 2022

जगदीप धनखड़ बने राजग के उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार

jagdeep-dhankhar-nda-vice-presidential-candidate
नयी दिल्ली,16 जुलाई, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने आज पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ को देश के उपराष्ट्रपति पद के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) का उम्मीदवार घोषित किया। पार्टी के केंद्रीय कार्यालय में शनिवार शाम हुई भाजपा संसदीय दल की बैठक में यह फैसला लिया गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी और भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा के संगठन महासचिव बी एल संतोष शामिल हुए। बैठक के बाद श्री नड्डा ने संवाददाता सम्मेलन में इस निर्णय का एलान किया। उन्होंने कहा, “भाजपा और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) उपराष्ट्रपति पद के लिए प्रत्याशी किसान पुत्र श्री जगदीप धनखड़ को घोषित करती है।” भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि श्री धनखड़ अभी पश्चिम बंगाल के राज्यपाल हैं और उन्होंने लगभग तीन दशक तक सार्वजनिक जीवन में काम किया है। उन्होंने राजस्थान के झुंझनू जिले के एक गांव में जन्म लिया और गांव में ही आरंभिक शिक्षा प्राप्त करके राजस्थान विश्वविद्यालय से उच्च शिक्षा हासिल की। बाद में एलएलबी की उपाधि हासिल करके राजस्थान उच्च न्यायालय और फिर उच्चतम न्यायालय में एक उत्कृष्ट वकील के रूप में पहचान बनायी। उन्होंने 1989 में पहली बार लोकसभा का चुनाव जीता और वह 1990 में संसदीय कार्य राज्य मंत्री बने। वह राजस्थान के किशनगढ़ से विधायक भी रहे। श्री धनखड़ को 2019 में पश्चिम बंगाल का राज्यपाल बनाया गया था। उन्होंने जनता के राज्यपाल के रूप में अपनी पहचान बनायी है। उल्लेखनीय है कि श्री धनखड़ ने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के पद पर रहते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी केे साथ कई बार सैद्धांतिक एवं संवैधानिक मुद्दों पर टकराव लेने से गुरेज़ नहीं किया। 

कोई टिप्पणी नहीं: