बिहार : राजीवनगर में मकानों को बुलडोज करना अमानवीय कदम: माले - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 5 जुलाई 2022

बिहार : राजीवनगर में मकानों को बुलडोज करना अमानवीय कदम: माले

  • माले विधायकों सहित नेताओं की एक टीम ने किया घटनास्थल का दौरा.
  • उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद से मुलाकात की, बुलडोजर रोकने की मांग की.

cpi-ml-kunal
पटना 3 जुलाई, भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल ने राजीवनगर के नेपालीगनर में आम लोगों के घरों को बुलडोज कर देने की कार्रवाई को क्रूर व अमानवीय बताया है. कहा कि सरकार लंबे समय से स्थानीय लोगों से टैक्स वसूलती रही है, सरकार की सारी योजनाएं लागू होती रही हैं, भाजपा के स्थानीय विधायक उनके मकान की सुरक्षा का भरोसा दिलाते रहे हैं, फिर आज उनके मकान क्यों तोड़े जा रहे हैं? यदि उनके कागज वगैरह गलत थे, तो सरकार यह जानते हुए अपनी योजनाएं वहां क्यों लागू करती रही? सरकार को बुलडोजर की बजाए कोई दूसरा रास्ता अपनाना चाहिए था ताकि इस तरह की अप्रिय स्थिति की नौबत न आती.


माले विधायकों के नेतृत्व में चार सदस्यीय टीम ने किया राजीवनगर का दौरा

भाकपा-माले विधायक दल के उपनेता सत्यदेव राम, पालीगंज विधायक संदीप सौरभ, पार्टी की केंद्रीय कमिटी की सदस्य व ऐपवा की राज्य सचिव शशि यादव तथा राज्य कमिटी सदस्य जितेन्द्र कुमार ने आज राजीवनगर का दौरा करके स्थिति का जायजा लिया. माले नेताओं ने बुलडोजर चलने की वजह से दुखी व आक्रोशित लोगों से बात की. अब तक 20 एकड़ भूमि पर बुलडोजर चल चुका है. वहां तैनात एसपी व डीएसपी से बात की. माले नेताओं ने उनसे बीच का रास्ता निकालने का आग्रह किया.


महिलाओं को पुरुष पुलिसकर्मियों ने बर्बरता से पीटा

नेताओं ने पुलिस लाठीचार्ज में घायल लोगों से मुलाकात की. महिलाओं ने बताया कि महिला पुलिसकर्मी की अनुपस्थिति में पुरुष पुलिसकर्मियों ने उन्हें बेदर्दी से पीटा. मौके पर उपस्थित मजिस्ट्रेट ने विरोध कर रहे लोगों के साथ गाली-गलौज और बदतमीजी की. माले विधायकों ने कहा कि पुलिस का रवैया बेहद निंदनीय है. आखिर राज्य सरकार के निर्देश पर ही तो पुलिस आम लोगों के साथ इस प्रकार का क्रूर व्यवहार कर रही है.


उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद से मिले नेता

माले नेताओं ने घटनास्थल से ही उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद को फोन किया, लेकिन बात नहीं हो सकी. तब वे उनके आवास पर पहुंच गए. माले नेताओं ने कहा कि आवास बोर्ड भले स्वतंत्र हो, लेकिन यह सारी कार्रवाई राज्य सरकार की जानकारी में ही हो रही है. बुलडोजर चलाने की नीति कहीं से जायज नहीं है. सरकार इस मामले में हस्तक्षेप करे और बुलडोजर को तत्काल रोके. उपमुख्यमंत्री ने माले प्रतिनिधिमंडल के इस आग्रह पर विचार करने का आश्वासन दिया.

कोई टिप्पणी नहीं: