बिहार : धान की रोपाई 10 प्रतिशत भी नहीं हो पाई - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 15 जुलाई 2022

बिहार : धान की रोपाई 10 प्रतिशत भी नहीं हो पाई

rice-farming
पटना: बिहार किसान कांग्रेस उत्तर बिहार के चेयरमैन हिमांशु कुमार ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि जुलाई का आधा महीना बीत जाने के बावजूद जो धान रोपनी का सबसे उपयुक्त समय होता है बिहार के सभी जिलों में वर्षा का नगण्य होने के कारण किसानों की स्थिति बद से बदतर हो गई है. एक तो धान की रोपाई 10 प्रतिशत भी नहीं हो पाई है. दूसरी ओर रोपे गए धान और बिचरा तेज धूप के कारण पानी के अभाव में झुलस के बर्बाद हो गया है. खेतों की दरारें किसानों की दिल की दर्द बनकर रह गई है.सरकार द्वारा किसानों को कोई राहत नहीं दिया जाना चिंता का विषय है सुखार की ऐसी भीषण स्थिति में बिहार सरकार को किसानों के बारे में सोचने और इसके सुधार के लिए ठोस कदम उठाने की आवश्यकता है. बिहार किसान कांग्रेस बिहार सरकार से मांग करती है की सुखार के ऐसी भयावह स्थिति में खेती और किसानी को बचाने के लिए किसानों को डीजल अनुदान के साथ-साथ बिजली बिल माफ करने नलकूपों पर त्वरित गति से निर्बाध रूप से बिजली उपलब्ध कराने ,कृषि ऋण माफ कर नए सिरे से किसानों को सस्ते ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध कराने , 90 प्रतिशत अनुदान पर नलकूप किसानों को देने, वैकल्पिक खेती की व्यवस्था करने जैसा कदम उठाना चाहिए.

कोई टिप्पणी नहीं: