बिहार : हंगामादार मानसून सत्र का समापन - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 1 जुलाई 2022

बिहार : हंगामादार मानसून सत्र का समापन

  • बिहार विधानसभा में वंदे मातरम गाने से माननीय विरोध में सीट पर बैठे रहे

bihar-assembly-session
पटनाः बिहार विधानमंडल के मानसून सत्र का समापन हो गया है.यह मानसून सत्र गत 24 जून से शुरू हुआ था.आज पांचवा और आखिरी दिन था. 11 बजे विधानसभा की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्षी सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया. अग्निपथ योजना  को वापस लेने की मांग के साथ केंद्र सरकार और पीएम मोदी के खिलाफ नारेबाजी करने लगे. जिस पर डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद ने एतराज जताया. इस दौरान विपक्षी सदस्यों से मार्शलों ने पोस्टर छीन लिया लेकिन उनका हंगामा जारी रहा. आखिरकार विधानसभा की कार्यवाही 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई. 2 बजे जैसे ही सदन की कार्यवाही शुरू हुई, विपक्ष ने फिर से नारेबाजी शुरू कर दी. विधान परिषद की कार्यवाही पहले ही स्थगित हो गई. वहीं विधान सभा की कार्यवाही दूसरे हाफ के सेशन के बाद अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दी गई. सत्र के एक दिन पहले बिहार के सियासी हलचल का असर विधान सभा में दिखा. दरअसल बुधवार को असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के पांच में से चार विधायकों ने आरजेडी की सदस्यता ले ली. इसके साथ ही आरजेडी अब बिहार विधानसभा में सबसे बड़ी पार्टी हो गई है. 80 विधायकों के साथ राजद विधान सभा में मौजूद रहेगी तो उसका असर कार्यवाही पर भी दिखा. बता दें कि बुधवार को सत्र के चौथे दिन बिना विपक्ष के ही सदन की कार्यवाही संचालित की गई. पहले हाफ में प्रश्नकाल में कई प्रश्नों के उत्तर हुए तो वहीं ध्यान कर्षण में भी सरकार ने सत्ताधारी दल के सदस्यों के प्रश्नों का उत्तर दिया, क्योंकि विपक्ष सदन में मौजूद नहीं था. इसलिए उनके प्रश्न नहीं पूछे जा सके. लेकिन, दूसरे हाफ में सरकार ने सदन से प्रथम अनुपूरक बजट को पास करा लिया. बिहार विधानसभा के  मानसून  सत्र के समापन पर आज राष्ट्रीय गीत के दौरान फिर से कंट्रोवर्सी पैदा हो गई. आरजेडी के ठाकुरगंज के विधायक सऊद आलम जब राष्ट्रीय गीत बज रहा था तो अपनी सीट पर बैठे हुए थे. आरजेडी विधायक सऊद आलम ने बाद में सफाई देते हुए कहा कि हमारा मुल्क हिंदू राष्ट्र अभी नहीं हुआ है और हम राष्ट्रगान के समय ही खड़ा होते हैं, इसीलिए बैठे रह गए. इस पर बीजेपी विधायक संजय कुमार सिंह ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जो राष्ट्रगीत नहीं गाए वह देशद्रोही है और ऐसे लोगों पर कार्रवाई होनी चाहिए. वहीं आरजेडी विधायक के बचाव में आरजेडी के विधायक अख्तरुल इस्लाम शाहीन ने कहा कि- विधानसभा के मानसून सत्र की शुरुआत राष्ट्रगान से हुई थी. राष्ट्रगान में तो किसी तरह की कंट्रोवर्सी नहीं हुई लेकिन समापन राष्ट्रीय गीत से हुई, किसी को कोई खड़ा होने के लिए बाध्य नहीं कर सकता. हमारे देश का राष्ट्रगान जन गण मन है, इसको हम लोग मानते हैं. विधानमंडल के मानसून सत्र की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई.इस बीच बिहार विधानसभा में विजय सिन्हा के अध्यक्ष बनने के बाद इनके कार्यकाल में विधानसभा सत्र की शुरुआत राष्ट्रगान से होती है और समापन राष्ट्रगीत से होता है. आज जब  मानसून   सत्र के समापन से पहले राष्ट्रगीत गाया जा रहा था. ऐसे में राष्ट्रगीत के सम्मान में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव समेत सदन में मौजूद तमाम विधायक खड़े थे. लेकिन आरजेडी के अल्पसंख्यक विधायक सऊद आलम अपनी सीट पर ही बैठे रहे. जिसको लेकर बीजेपी के विधायकों ने हंगामा शुरू कर दिया.

कोई टिप्पणी नहीं: