दरभंगा : कुलपति प्रो० शशि नाथ झा ने किया "विश्वविद्यालय पंचांग" का विमोचन। - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 2 जुलाई 2022

दरभंगा : कुलपति प्रो० शशि नाथ झा ने किया "विश्वविद्यालय पंचांग" का विमोचन।

university-panchang
दरभंगा:- आज दिनांक 1 जुलाई 2022 को कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो० शशि नाथ झा ने अपने कार्यालय कक्ष में विश्वविद्यालय पंचांग का विमोचन किया। इस अवसर पर मिथिला विश्वविद्यालय सहित कई जगहों के विशिष्ट विद्वान उपस्थित थे। इस मौके पर प्रेस रिलीज के माध्यम से "गणितकर्ता एवं सह संपादक" वरुण कुमार झा ने बताया कि वर्तमान पंचांग का आरंभ 14 जुलाई 2022 से हो रहा है तथा यह 3 जुलाई 2023 तक मान्य होगा। इसमें राजा चंद्रमा तथा मंत्री बृहस्पति है। वर्षा 7 विश्वा तथा धान्य 5 विश्वा है। दिनांक 15 मार्च 2023 से 14 अप्रैल 2023 तक चैत्रमास में कामाख्या में कुंभयोग का आयोजन होगा। सौराठ सभा का आयोजन दिनांक 19 जून 2023 से 28 जून 2023 तक होगा। रक्षाबंधन 12 अगस्त 2022 को, कृष्णाष्टमी 19 अगस्त 2023 को, आश्विन दुर्गापूजा का आरंभ (कलशस्थापन) दिनांक 26 सितंबर 2022 को व विजयादशमी 5 अक्टूबर 2022 को, कोजगरा 9 अक्टूबर 2022 को, दीपावली 24 अक्टूबर 2022 को, छठ के अस्तलगामी भास्कर का अर्घ्य 30 अक्टूबर 2022 को व उदयगामी भास्कर का अर्घ्य 31 अक्टूबर 2022 को, मकर संक्रांति 15 जनवरी 2023 को, होलिकादहन 7 मार्च 2023 को और होली 8 मार्च 2023 को होगा। इस बीच दिनांक 25 अक्टूबर 2022 को खंडग्रास सूर्यग्रहण तथा 8 नवंबर 2022 को खग्रास चंद्रग्रहण लग रहा है। सूर्यग्रहण को स्पर्श दिन में 04 बजकर 42 मिनट तथा मोक्ष संध्या 05 बजकर 08 मिनट पर और चंद्रग्रहण का स्पर्श दिन में 04 बजकर 59 मिनट पर तथा मोक्ष संध्या 6 बजकर 20 मिनट पर होगा। एक मास में दो ग्रहण का होना अशुभ फलदायक होता है।


मुख्य दिन:-

1). यज्ञोपवीत संस्कार (उपनयन दिन):-

जनवरी:- 26 व 31

फरवरी:- 01, 22 व 24

मार्च:- 01, 02 व 03

मई:- 01, 22, 24, 29, 30 व 31

कुल:- 14 दिन


2). पाणिग्रहण संस्कार (विवाह दिन):-

नवंबर:- 20, 21, 24, 25, 27, 28 व 30

दिसंबर:- 04, 05, 07, 08, 09 व 14

जनवरी:- 18, 19, 22, 23, 25, 26, 27 व 30

फरवरी:- 01, 06, 08, 10, 15, 16, 17, 22, 24 व 27

मार्च:- 01, 06, 08, 09 व 13

मई:- 01, 03, 07, 11, 12, 17, 21, 22, 26, 29 व 31

जून:- 05, 07, 08, 09, 12, 14, 18, 22, 23, 25 व 28

कुल:- 58 दिन


3). मुंडन दिन:-

नवंबर:- 25, 28 व 30

दिसंबर:- 05 व 09

जनवरी:- 23, 26 व 27

फरवरी:- 13, 10, 22, 23 व 24

मार्च:- 01, 02, 03, 09 व 10

अप्रैल:- 24, 26 व 27

मई:- 01, 03, 08, 22, 24, 29 व 31

जून:- 01, 02, 08, 21 व 28

कुल:- 34 दिन


साथ ही गृहारंभ व गृहप्रवेश के लिये 28-28 शुभ मुहूर्त है।

कोई टिप्पणी नहीं: