पीआईबी के खिलाफ पत्रकारों का संसद के समक्ष प्रदर्शन। - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 20 जुलाई 2022

पीआईबी के खिलाफ पत्रकारों का संसद के समक्ष प्रदर्शन।

journalists-demonstrated-against-pib
नयी दिल्ली 18 जुलाई । पत्रकारों ने पीआईबी के तीन अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग को लेकर सोमवार को संसद के समक्ष जंतर मंतर पर जोरदार प्रदर्शन किया।इस दौरान जर्नलिस्ट प्रोटेक्शन एक्ट एवं यूएनआई के रिवाइवल की मांग की गयी। प्रदर्शनकारियों की अगुआई करते हुए जॉइंट फोरम के संयोजक सुलतान एस कुरैशी ने कहा कि पीआईबी के तीन अधिकारियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई कर सरकार पत्रकारों की समस्याओं को दूर करे। प्रदर्शनकारियों को पेरिओडिकल प्रेस ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ सुरेन्द्र शर्मा,यूनाइटेड इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन (UIJA) के सुबीर सेन,संजीत चौधरी,अजित सिंह,इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन के गोपाल ठाकुर,सार्क जर्नलिस्ट फोरम के अनिरुद्ध सुधांशु, वरिष्ठ पत्रकार सजन झा फ़िल्म अभिनेता अंजनी कुमार,समाजवादी चिंतक डॉ.महेंद्र सिंह एवं सेव् यूएनआई मूवमेंट के डॉ समरेन्द्र पाठक सहित कई पत्रकारों ने संबोधित किया। वक्ताओं ने कहा किपीआईबी एक्रीडेशन रिनुअल एवं नए एक्रीडेशन को लेकर काफी संख्या में पत्रकार भेदभाव के शिकार हुए हैं।इससे पत्रकारों में असंतोष है। उन्होंने कहा कि पत्रकारों की खुशहाली के लिये जर्नलिस्ट प्रोटेक्शन एक्ट जरुरी है।उन्होंने यूएनआई के रिवाइबल की भी मांग की। विरोध कार्यक्रम की शुरुआत दिवंगत पत्रकार पंडित उपेन्द्र नाथ मिश्र को दो मिनट का मौन रखकर श्रधांजलि देने के साथ शुरू हुई।

कोई टिप्पणी नहीं: