गया : बहरेपन का स्क्रीनिंग कानपुर से आई टीम द्वारा करवाएं - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 6 जुलाई 2022

गया : बहरेपन का स्क्रीनिंग कानपुर से आई टीम द्वारा करवाएं

गया : इस जिले के जिला पदाधिकारी, गया डॉ० त्यागराजन एसएम द्वारा आज जेपीएन अस्पताल में एस एन मल्होत्रा मेमोरियल फाउंडेशन कानपुर के टेक्निकल सपोर्ट के माध्यम से श्रवण श्रुति कार्यक्रम अंतर्गत गया जिला के मूक बधिर बच्चों/ हियरिंग लॉस बच्चों के लिए स्क्रीनिंग कैंप का आयोजन किया गया, जिसका उद्घाटन फीता काटकर जिला पदाधिकारी द्वारा किया गया. श्रुति कैंप में उपस्थित पदाधिकारियों, यूनिसेफ के पदाधिकारी एवं हियरिंग लॉस वाले बच्चों के परिजनों को स्वागत करते हुए कहा कि आप सभी इस कार्यक्रम में उपस्थित हुए हैं। उपस्थित अभिभावकों को कहा कि आप बिल्कुल निर्भीक होकर अपने बच्चों को आधुनिक मशीनों से बहरेपन का स्क्रीनिंग कानपुर से आई टीम द्वारा करवाएं. पूर्व में भी अनेकों बच्चों का जांच/ स्क्रीनिंग किया गया है तथा उन्हें निशुल्क उपचार ही कराया गया है. उन्होंने कहा कि 0 से 6 साल के बच्चों अगर सुनने की क्षमता या बोलने की क्षमता को जांच लें, अगर उसमें किसी प्रकार की गड़बड़ी पाई जाएगी तो उसे आसानी से ठीक करा सकते हैं परंतु अगर 6 साल उम्र के बाद अगर ठीक कराने के लिए सोचेंगे, तो किसी बच्चों को ठीक करना थोड़ा मुश्किल होगा.


उन्होंने कहा कि ’डब्ल्यूएचओ के सर्वे के अनुसार 1000 बच्चों में से 5- 7 बच्चे बोल नहीं पाते हैं तथा सुन नहीं पाते, संबंधित पाए जाते हैं. इसलिए जिला प्रशासन तथा जिला पदाधिकारी तथा स्वास्थ्य विभाग द्वारा श्रवण श्रुति कार्यक्रम में विशेष रूचि लेते हुए यह कार्यक्रम शुरू किया है’ और अब तक जिले में 12000 से अधिक बच्चों को जांच करा लिया गया है तथा यह खुशी की बात है कि उनमें से 40 बच्चे ऐसे पाए गए जो हियरिंग लॉस पाए गए हैं. उन बच्चों को निःशुल्क इलाज कराया गया तथा उन 40 बच्चों में से ऐसे 02 बच्चे पाए गए जिन्हें जिला प्रशासन के स्तर से 8 लाख से 9 लाख रुपये मूल्य के cochlear implant मशीन बच्चों को लगाए गए जो बिल्कुल निशुल्क में लगाए गए. एक बच्चा इमामगंज का तथा एक बच्चा टिकारी का जिसका नाम हमजा समसुद शामिल है. जिला प्रशासन तथा जिला पदाधिकारी द्वारा इसे गंभीरता से लेते हुए बच्चों का बेहतर इलाज करवाया जा रहा है.साथ ही स्वास्थ्य विभाग द्वारा संबंधित संस्थान से लगातार संपर्क में है. उन्होंने अभिभावकों से अनुरोध किया कि बच्चों में यदि कुछ कमी पाई जाती हैं तो चिकित्सकों का सहयोग करें। अपने मन में किसी प्रकार का भय ना रखें। जिला पदाधिकारी ने श्रुति स्क्रीनिंग कैंप में उपस्थित होने वाले बच्चों तथा अभिभावकों को धन्यवाद दिया। इसके पूर्व डीपीएम स्वास्थ्य श्री निलेश कुमार द्वारा स्वागत भाषण में जिला पदाधिकारी गया का स्वागत करते हुए कहा कि आज कानपुर की टीम जेपीएन अस्पताल आई है तथा यहाँ बच्चों को हियरिंग लॉस संबंधी स्क्रीनिंग का कार्य करेगी.मशीन से जांच के दौरान यदि किसी बच्चे को सुनने में कठिनाई जैसी समस्या आएगी तो उसे पटना एम्स या कानपुर से समन्वय रखते हुए उनका निःशुल्क उपचार कराया जाएगा. जिला प्रशासन तथा स्वास्थ्य विभाग का यह प्रयास है कि कोई भी बच्चा इस तरह की गंभीर बीमारियों से ग्रसित ना रहे, इसलिए कैंप के माध्यम से बच्चों का स्क्रीनिंग कार्य कराया जा रहा है. इसके उपरांत जिला पदाधिकारी द्वारा 0 से 6 साल के बीच उम्र वाले बच्चों को कानपुर से आई टीम द्वारा आधुनिक मशीन के माध्यम से हियरिंग लॉस संबंधित किए जा रहे स्क्रीनिंग का अवलोकन करते हुए कई प्रकार की जानकारी ली तथा उन्हें धन्यवाद देते हुए कहा कि आप बच्चों को बेहतर तरीके से हियरिंग लॉस संबंधी का स्क्रीनिंग करते हुए उनका इलाज करें.

कोई टिप्पणी नहीं: