बिहार : पीएफआई से संघ की तुलना आपत्तिजनक : सुशील मोदी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 14 जुलाई 2022

बिहार : पीएफआई से संघ की तुलना आपत्तिजनक : सुशील मोदी

comparison-of-sangh-with-pfi-is-objectionable-sushil-modi
पटना 14 जुलाई, बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने भारत को इस्लामी देश बनाने की साजिश रच रहे पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की तुलना को घोर आपत्तिजनक बताते हुए बयान देने वाले पटना के वरीय पुलिस अधीक्षक से इसके लिए माफी की मांग की है। श्री मोदी ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा कि धर्मनिरपेक्ष भारत को इस्लामी देश बनाने की साजिश में लिप्त पीएफआई के संदिग्ध आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद इस प्रतिबंधित संगठन से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जैसे देशभक्त संगठन की तुलना करना नितांत निंदनीय और अज्ञानतापूर्ण है। उन्होंने कहा कि पटना के एसएसपी को ऐसा बयान तुरंत वापस लेना चाहिए और इसके लिए माफी भी मांगनी चाहिए। भाजपा सांसद ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ऐसा संगठन है, जो देशप्रेम, उच्च आदर्श और सर्वधर्म समभाव का प्रवर्तन करने में लगभग एक सदी से निष्ठापूर्वक लगा है। उन्होंने आगे कहा, “जिस संगठन ने अटल बिहारी वाजपेयी, नरेंद्र मोदी,अमित शाह और राजनाथ सिंह जैसे अनेक यशस्वी नेतृृत्व देश को दिये, उसकी तुलना आतंकवाद और कट्टरता को बढ़ावा देने वालों से बिल्कुल नहीं की जा सकती।”

कोई टिप्पणी नहीं: