सरकार नियम अनुसार हर विषय पर चर्चा के लिए तैयार : प्रह्लाद जोशी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 20 जुलाई 2022

सरकार नियम अनुसार हर विषय पर चर्चा के लिए तैयार : प्रह्लाद जोशी

government-ready-for-discussion-on-every-subject
नयी दिल्ली 20 जुलाई, संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने महंगाई के मुद्दे पर चर्चा से भागने के कांग्रेस के नेता जयराम रमेश के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा है कि सरकार नियमानुसार हर मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है लेकिन कांग्रेस सकरात्मक चर्चा के बजाय केवल व्यवधान और नुकसान करना चाहती है। श्री जोशी ने बुधवार को संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से कहा कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण कोविड से संक्रमित हैं और जैसे ही वह ठीक होकर संसद आती हैं महंगाई के मुद्दे पर चर्चा करायी जायेगी। संसदीय कार्य मंत्री ने कहा कि वैसे भी महंगाई के मुद्दे पर चर्चा का निर्णय राज्यसभा के सभापति और लोकसभा अध्यक्ष को लेना है लेकिन विपक्ष आसन की बात पर ध्यान नहीं दे रही । यह असंसदीय है। कोविड के समय जब सरकार ने प्रश्नकाल नहीं कराने का निर्णय लिया तो विपक्ष ने कहा था कि प्रश्नकाल संसद की जीवन रेखा है और अब विपक्ष प्रश्नकाल नहीं चलने दे रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस केवल व्यवधान पैदा करना चाह रही है और उसका महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा कराने का इरादा नहीं है। उल्लेखनीय है कि श्री रमेश ने ट्वीट कर कहा था, “ आज सुबह राज्यसभा में कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्ष ने मूल्य वृद्धि और खाद्य पदार्थों पर लगाई गई जीएसटी पर तत्काल बहस की मांग की। सरकार ने इससे इनकार कर दिया। सदन की कार्यवाही दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। मोदी सरकार की जिद जारी है। संसद में कामकाज नहीं हो पा रहा है।” संसद का मानसून सत्र सोमवार को शुरू हुआ था लेकिन विपक्ष की महंगाई के मुद्दे पर चर्चा कराने की मांग पर अड़े रहने के कारण कार्यवाही लगातार बाधित हो रही है। 

कोई टिप्पणी नहीं: