सुधारों ने विश्वास आधारित कर प्रणाली सुनिश्चित की : सीतारमण - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

रविवार, 24 जुलाई 2022

सुधारों ने विश्वास आधारित कर प्रणाली सुनिश्चित की : सीतारमण

reforms-of-government-ensured-trust-based-tax-system-sitharaman
नई दिल्ली 24 जुलाई, केंद्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट मामले मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज कहा कि सरकार के हाल के सुधारों ने देश में विश्वास आधारित कर प्रणाली सुनिश्चित की है। श्रीमती सीतारमण ने रविवार को 163वें आयकर दिवस के अवसर पर आयकर विभाग को अपने संदेश में कहा कि हाल के वर्षों में सरकार द्वारा शुरू किए गए सुधारों ने विश्वास-आधारित कर प्रणाली सुनिश्चित की है। बेहतर कर संग्रह की प्रवृत्ति और दायर आयकर रिटर्न की संख्या में वृद्धि से स्पष्ट है कि करदाताओं ने भी इस विश्वास-आधारित दृष्टिकोण की पुष्टि की है। उन्होंने पिछले वित्त वर्ष में 14 लाख करोड़ रुपये से अधिक का राजस्व संग्रह हासिल करने के लिए विभाग की सराहना की और उम्मीद जताई कि विभाग चालू वित्त वर्ष में भी इस गति को बनाए रखेगा। केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने अपने संदेश में कहा कि कर विभाग की जिम्मेदारी केवल कुशल और प्रभावी कर प्रशासन तक ही सीमित नहीं है बल्कि ईमानदार करदाताओं को सम्मानित करने और बेहतर करदाता सुविधा प्रदान करने की भी है। उन्होंने आज के समय में लोगों की जरूरतों और आकांक्षाओं के अनुरूप खुद को अनुकूलित करने और अपने कामकाज में पारदर्शी, गैर-दखल देने वाला और करदाता अनुकूल बनने के लिए विभाग की सराहना की। केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री डॉ. भागवत किशनराव कराद ने अपने संदेश में कहा कि आयकर विभाग ने राष्ट्र के विकास और आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने कई दूरगामी सुधारों को लागू करने के लिए विभाग की सराहना की। राजस्व सचिव तरुण बजाज ने सकारात्मक बदलाव को अपनाकर करदाताओं को समयबद्ध सेवाएं देने के लिए खुद को एक सक्षम संगठन साबित करने के लिए विभाग की सराहना की। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा आयोजित विभिन्न करदाता आउटरीच कार्यक्रम करदाताओं और विभाग के बीच आपसी विश्वास और सम्मान का माहौल बनाने में एक लंबा सफर तय करेंगे। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के अध्यक्ष नितिन गुप्ता ने वित्त वर्ष 2021-22 में अबतक के सर्वाधिक 14.09 लाख करोड़ रुपये कर संग्रह के लिए विभाग की सराहना की।

कोई टिप्पणी नहीं: