शिंजो आबे सालों-साल भारत के जन-मन में बसे रहेंगे : मोदी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 8 जुलाई 2022

शिंजो आबे सालों-साल भारत के जन-मन में बसे रहेंगे : मोदी

shinzo-abe-will-remain-in-india-modi
नयी दिल्ली 08 जुलाई, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि भारत में विकास के कार्यों के जरिए श्री आबे यहां के जन मन में सालों-साल तक बसे रहेंगे। श्री मोदी ने यहां विज्ञान भवन में प्रथम अरुण जेटली व्याख्यानमाला को संबोधित करते हुए कहा, “आज का दिन मेरे लिए अपूर्णीय क्षति और असहनीय पीड़ा का दिन है। मेरे घनिष्ठ मित्र और जापान के पूर्व प्रधानमंत्री श्री शिंजो आबे अब हमारे बीच नहीं रहे। आबे जी मेरे तो साथी थे ही, वो भारत के भी उतने ही विश्वसनीय दोस्त थे।” प्रधानमंत्री ने कहा कि श्री आबे के कार्यकाल में भारत जापान के राजनीतिक संबंधों को नई ऊंचाई तो मिली ही, हमने दोनों देशों की सांझी विरासत से जुड़े रिश्तों को खूब आगे बढ़ाया। उन्होंने कहा, “आज भारत के विकास की जो गति है, जापान के सहयोग से हमारे यहां जो कार्य हो रहे हैं, इनके जरिए शिंजो आबे जी भारत के जन मन में सालों-साल तक बसे रहेंगे।” जापान के पूर्व प्रधानमंत्री श्री आबे की मृत्यु से ना केवल विश्व में बल्कि भारत के कोने कोने में शोक की लहर व्याप्त हो गयी और भारत में दिवंगत नेता के सम्मान में शनिवार को राष्ट्रीय शोक की घोषणा की गयी है। जापान में क्योतो के निकट नारा शहर में आज स्थानीय समयानुसार करीब साढ़े 11 बजे एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते समय 41 वर्षीय हमलावर ने बंदूक से श्री आबे को नज़दीक से गोली मार दी जिससे वह नीचे गिर गये। बाद में सुरक्षा अधिकारियों को पता चला कि उन्हें गोली मारी गयी है। श्री आबे को तत्काल निकट के अस्पताल ले जाया गया। डॉक्टरों के अनुसार श्री आबे के शरीर में जीवन के लक्षण नहीं दिख रहे थे लेकिन करीब छह घंटे तक उन्हें जीवित करने की कोशिशें जारी रहीं। जद्दोजहद के बाद डॉक्टरों ने हाथ खड़े कर दिये और अधिकारियों ने श्री आबे के निधन की पुष्टि कर दी। देश के प्रधानमंत्री फूमियो किशिदा अपने सरकारी कार्यक्रम रद्द करके तुरंत घटनास्थल पर पहुंचे और श्री आबे के उपचार की पल-पल की जानकारी लेते रहे। 

कोई टिप्पणी नहीं: