बिहार : कांग्रेस ने अगस्त क्रांति दिवस पर निकाला तिरंगा मार्च - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 9 अगस्त 2022

बिहार : कांग्रेस ने अगस्त क्रांति दिवस पर निकाला तिरंगा मार्च

  • * अगस्त क्रांति दिवस पर कांग्रेस ने अमर शहीदों को दी श्रद्धांजलि, निकाला तिरंगा मार्च’
  • * कांग्रेस ने अगस्त क्रांति दिवस पर निकाला तिरंगा मार्च, अमर शहीदों को दिया श्रद्धांजलि

bihar-news-congress
पटनाः अगस्त क्रांति 1942 के 80वीं वर्षगांठ पर बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी के द्वारा अमर शहीदों के मूर्ति पर माल्यार्पण किया गया और देश की एकता-अखंडता को अक्षुण्ण रखने का प्रतिज्ञान भी लिया. इससे पूर्व प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय सदाकत आश्रम से कांग्रेस सेवादल के नेतृत्व में तिरंगा मार्च निकाला गया जिसका नेतृत्व प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी एवं सेवादल के प्रदेश मुख्य संघटक मो. शोएब ने किया. सेवादल के द्वारा निकाले गए तिरंगा मार्च सदाकत आश्रम से एलसीटी घाट, राजापुर पुल, हड़ताली मोड़, न्यू सचिवालय होते हुए शहीद स्मारक विधानसभा तक गया. बिहार कांग्रेस के प्रभारी भक्त चरण दास ने माल्यार्पण के बाद कहा कि अमर शहीदों को याद करके हम देश की आजादी के उन महान बलिदानियों को नमन करते हैं जिन्होंने आजादी की लड़ाई में प्रत्यक्ष तौर पर अपना योगदान दिया. देश को एकजुट रखने और अपने स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान को वर्तमान दौर के युवाओं तक पहुंचाने की जरूरत है. शहीद स्मारक पर माल्यार्पण के बाद प्रदेश अध्यक्ष डॉ मदन मोहन झा ने कांग्रेसजन को सम्बोधित करते हुए कहा कि  ‘भारत छोड़ो आंदोलन‘ के 80वीं वर्षगांठ के मौके पर आज शहीद स्मारक पर अमर शहीदों को सलामी, माल्यार्पण एवं प्रतिज्ञान लेकर कांग्रेसजन राष्ट्र के प्रति अपनी जिम्मेदारी को प्रदर्शित करते हैं. देश के मौजूदा हालात में जिन्होंने आजादी की लड़ाई के सँघर्ष में अपना बलिदान छोड़िए योगदान तक नहीं दिए वों आज देश में राष्ट्रप्रेम की बात कर रहे हैं.जबकि देश की आजादी में जिस दल ने अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया उनपर मनगढ़ंत आरोप लगाये जा रहे हैं। देश को साम्प्रदायिक ताकतों से बचाना वर्तमान दौर की जरूरत है. तिरंगा मार्च और शहीद स्मारक पर माल्यार्पण में कांग्रेस विधायक दल के नेता अजित शर्मा, कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी, श्याम सुन्दर सिंह धीरज, पूर्व मंत्री कृपा नाथ पाठक, विधायक शकील अहमद खान, प्रेमचंद मिश्र, राजेश कुमार, मीडिया विभाग के चेयरमैन राजेश राठौड़, विधायक विजय शंकर दुबे, सिद्धार्थ सिंह, प्रतिमा कुमारी दास, अफाक आलम, संजय तिवारी उर्फ मुन्ना तिवारी, आनंद शंकर, छत्रपति यादव, संतोष मिश्रा, अजय सिंह, विश्वनाथ राम, पूर्व विधायक नरेन्द्र कुमार, हरखू झा, ब्रजेश प्रसाद मुनन, लाल बाबु लाल, ब्रजेश पाण्डेय, कुमार आशीष, प्रवीण कुशवाहा, डॉ. स्नेहाशीष वर्धन पाण्डेय, गुंजन पटेल, चुन्नू सिंह, आशुतोष शर्मा, शशि रंजन, राजेश कुमार सिन्हा, शशि कुमार सिंह, ज्ञान रंजन, संजीव कुमार कर्मवीर, कमलदेव नारायण शुक्ला, शशि कान्त तिवारी, , ललन यादव, सौरभ सिन्हा, सकिलुर रहमान, अशोक गगन, संतोष श्रीवास्तव मिरनाल अनामय, सिद्धार्थ क्षत्रिय, सुधा मिश्रा, रीता सिंह, अफसर अहमद, वेंकटेश कुमार, कपिलदेव प्रसाद यादव, अरविन्द चौधरी सत्येन्द्र कुमार सिंह, वसी अख्तर,  उदय शंकर पटेल, कुंदन गुप्ता, उमेश कुमार राम, प्रदुमन यादव, गुरदयाल सिंह, निरंजन कुमार,मोनी पासवान, विमलेश तिवारी, अनूप कुमार, सुनील कुमार सिंह, अविनाश कुमार, राम नरेश चौधरी, मृगेंद्र कुमार सिंह, दुर्गा प्रसाद, दिलीप कुमार सिंह, राजेंद्र चौधरी, अश्विनी कुमार, रंजीत यादव, रणधीर यादव, अशोक यादव एवं सेवादल के पदाधिकारियों में अफरोज खान, मो. शोएब, अखिलेश विद्यार्थी, बिपिन झा, राजीव पाण्डेय, अमरजीत, रूचि सिंह, नुरेशा खातून, हलिम अख्तर,सिसिल साह समेत सैंकड़ों नेता मौजूद रहें.

कोई टिप्पणी नहीं: