सार्वजनिक वितरण प्रणाली पर प्रयोगशाला का उद्घाटन - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 16 अगस्त 2022

सार्वजनिक वितरण प्रणाली पर प्रयोगशाला का उद्घाटन

inaugurates-laboratory-on-public-distribution-system
नयी दिल्ली, 16 अगस्त, केंद्रीय मंत्री मंत्री पीयूष गोयल ने मंगलवार को सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) जैसी सार्वजनिक प्रणालियों को अधिक कारगर बनाने के लिए इस क्षेत्र में नवप्रवर्तन पर बल दिया और वह आईआईटी दिल्ली में पब्लिक सिस्टम्स लैब (सार्वजनिक प्रणालियों की प्रयोगशाला) के उद्घाटन के मौके पर बोल रहे थे। उनके पास वाणिज्य और उद्योग, उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण और कपड़ा मंत्रालय का प्रभार है। श्री गोयल ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सोमवार को स्वाधीनता दिवस संबोधन में जय जवान, जय किसान और जय विज्ञान के साथ जय अनुसंधान के प्रधानमंत्री के आह्वान का उल्लेख करते हुए कहा, “अमृत काल में प्रवेश करने के पहले दिन सार्वजनिक प्रणालियों संबंधी प्रयोगशाला का शुभारंभ करने का इससे अच्छा अवसर कोई और नहीं हो सकता है।” सार्वजनिक प्रणाली प्रयोगशाला की स्थापना के लिए आईआईटी दिल्ली और विश्व खाद्य कार्यक्रम की सराहना करते हुए श्री गोयल ने कहा कि किए जा रहे शोध कार्य दुनिया को सार्वजनिक वितरण प्रणाली को अधिक कुशल और प्रभावी बनाने के लिए प्रौद्योगिकी और नवाचार के उपयोग को प्रदर्शित करेंगे। केंद्रीय मंत्री ने कहा, “यह प्रयोगशाला सार्वजनिक खाद्य खरीद और वितरण जैसे महत्वपूर्ण सार्वजनिक कार्यक्रमों और उनकी प्रणालियों के क्षेत्र में यह नवाचार के माध्यम से महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।” उन्होंने कहा कि सार्वजनिक प्रणाली प्रयोगशाला नवाचार का एक आदर्श उदाहरण है जो हमारे राष्ट्र के विकास में योगदान देगा और सार्वजनिक वितरण प्रणाली में दक्षता लाकर देश को भ्रष्टाचार से छुटकारा दिलाएगा। सार्वजनिक वितरण प्रणाली को अधिक प्रभावी और कुशल बनाने के लिए नवाचार और अभिनव समाधानों के उपयोग पर सरकार के विशेष ध्यान के बारे में श्री गोयल ने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेएवाई ) जैसी सरकारी पहलों के माध्यम से, भारत खाद्य सुरक्षा से निपटने में दुनिया के लिए एक आदर्श प्रस्तुत कर रहा है। कोविड-19 की भयावह महामारी के बावजूद, सरकार ने “एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड” के माध्यम से सभी के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित की। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय की एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि यह प्रयोगशाला संचालन अनुसंधान, एआई, डेटा विज्ञान आदि के ज्ञान का उपयोग उन महत्वपूर्ण समस्याओं को हल करने के लिए करेगी जो करोड़ों लोगों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए महत्वपूर्ण हैं। इसके कार्य खाद्य, स्वास्थ्य, परिवहन और सुशासन के क्षेत्र में सुधार की दृष्टि से महत्वपूर्ण होंगे। 

कोई टिप्पणी नहीं: