एलएंडटी की मुंबई तटीय सड़क परियोजना ने टनल बोरिंग में कायम किया विश्व रिकॉर्ड - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 10 अगस्त 2022

एलएंडटी की मुंबई तटीय सड़क परियोजना ने टनल बोरिंग में कायम किया विश्व रिकॉर्ड

lts-mumbai-coastal-road-project-sets-a-world-record-in-tunnel-boring
मुंबई :  ईपीसी प्रोजेक्ट्स, हाई-टेक मैन्युफैक्चरिंग एंड सर्विसेज में जुटी एक भारतीय बहुराष्ट्रीय कंपनी लार्सन एंड टुब्रो ने आज घोषणा की कि उसकी 12.19 मीटर डायस्लरी टीबीएम (टनल बोरिंग मशीन), जिसका नाम ‘मावला’ है ने एक विश्व रिकॉर्ड कायम किया है। प्रतिष्ठित मुंबई तटीय सड़क परियोजना के पैकेज 4 में 456.72 मीटर लंबी खुदाई करके टनल बोरिंग मशीन ने यह रिकॉर्ड बनाया। गिरगांव चौपाटी में कायम की गई टीबीएम, जो वर्तमान में देश में सबसे बड़ी तैनाती है, ने 13 मीटर सिंगल शील्ड ईपीबी (पृथ्वी दबाव संतुलन) टीबीएम के मासिक टनलिंग के लिए 455.4 मीटर के पिछले वैश्विक रिकॉर्ड को तोड़ दिया। एलएंडटी के होलटाइम डायरेक्टर और सीनियर एक्जीक्यूटिव वाइस प्रेसीडेंट (सिविल इंफ्रास्ट्रक्चर) श्री एस वी देसाई ने इस उपलब्धि के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए कहा, ‘‘यह दुनिया भर में पूरे निर्माण उद्योग के लिए एक बड़ी उपलब्धि है और वास्तव में गर्व करने लायक एक इंजीनियरिंग उपलब्धि है। हमने अपनी अनुभवी और योग्य टीम की बदौलत टनलिंग की यह गति हासिल की। इसने हमें इस प्रतिष्ठित और अत्यंत जटिल परियोजना को समय पर और गुणवत्ता के साथ पूरा करने के लिए निर्माण को गति देने के लिहाज से बढ़ावा दिया था। मैं इस अवसर पर अपने ग्राहक, ग्रेटर मुंबई नगर निगम (एमसीजीएम) को धन्यवाद देता हूं, जिन्होंने हम पर विश्वास किया और इस पूरी प्रक्रिया के माध्यम से हमारा साथ दिया, साथ ही हमारे कर्मचारियों का भी आभारी हूं, जिनके बिना यह उपलब्धि हासिल नहीं की जा सकती थी।’’ प्रोजेक्ट टीम के लिए, यह उपलब्धि कई चुनौतियों का सामना करने और उनसे पार पाने की उनकी सफलता को दर्शाती है। सबसे पहले, शिवाजी की सेना में पैदल सेना के योद्धाओं के नाम पर रखा गया- टीबीएम मावला।  इसे महामारी के चरम दौर में डिलीवर किया गया था और चूंकि बाहरी विशेषज्ञ यात्रा नहीं कर सकते थे, टीम ने केवल कुछ वर्चुअल सहायता के साथ टीबीएम को इकट्ठा करने के लिए खुद ही शुरुआत की। लगभग 2,500 टन वजनी टीबीएम को तब लॉन्चिंग शाफ़्ट में पूरी तरह से असेंबल किया गया था। दूसरी सुरंग निर्माण शुरू करने के लिए शाफ्ट के अंदर टीबीएम को ‘रोटेट’ करने के लिए उन्होंने अपना एक और अभिनव तरीका अपनाया, जिससे उन्हें एक नए स्थान पर टीबीएम को अलग करने, उठाने, परिवहन करने, फिर से इकट्ठा करने जैसे कार्यों को पूरा करने में कई महीनों की बचत हुई। मुंबई कोस्टल रोड प्रोजेक्ट (एमसीआरपी)-  एमसीआरपी का फेज -1 मरीन लाइन्स पर प्रिंसेस स्ट्रीट फ्लाईओवर से बांद्रा-वर्ली सी लिंक (बीडब्ल्यूएसएल) के वर्ली छोर तक 9.98 किमी का खंड है, जिसमें सी फ्रंट डेवलपमेंट शामिल है और यह देश में अपनी तरह का पहला प्रोजेक्ट है। इस प्रोजेक्ट को 3 पैकेजों में बांटा गया है। पैकेज- 1 - अमरसंस गार्डन से बड़ौदा पैलेस तक, पैकेज- 2 - बड़ौदा पैलेस से इसे बांद्रा वर्ली सी लिंक और पैकेज- 4 से जोड़ना - मरीन लाइन्स पर प्रिंसेस स्ट्रीट फ्लाईओवर से प्रियदर्शिनी पार्क तक। एलएंडटी एमसीजीएम के लिए पैकेज 1 और 4 निष्पादित कर रहा है जिसमें शामिल हैं प्रियदर्शिनी पार्क से बड़ौदा पैलेस तक पुनः प्राप्त भूमि पर 3.82 किमी लंबे खंड का निर्माण और अमरसंस गार्डन और हाजी अली में इंटरचेंज। पैकेज 4 में 4.06 किमी की संयुक्त सड़क लंबाई बनाने के लिए कट और कवर, रैंप आदि के साथ 2 किमी लंबी ट्विन बोर टनल का निर्माण शामिल है। पूरा होने पर, यह भारत की सबसे बड़ी और सबसे गहरी बोर रोड टनल होगी।

कोई टिप्पणी नहीं: