बिहार : लालू के दामाद और कार्यकर्ता चला रहे सरकार, नीतीश लाचार : सुशील मोदी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 19 अगस्त 2022

बिहार : लालू के दामाद और कार्यकर्ता चला रहे सरकार, नीतीश लाचार : सुशील मोदी

sushil-modi-attack-nitish
पटना 19 अगस्त, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने बिहार के वन एवं पर्यावरण मंत्री तेजप्रताप यादव के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की बैठक में अपने जीजा को शामिल करने को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा और कहा कि अब प्रदेश में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के दामाद और कार्यकता ही सरकार चला रहे हैं। पूर्व उप मुख्यमंत्री श्री मोदी ने शुक्रवार को जारी बयान में कहा कि अब बिहार में जनप्रतिनिधि और काबिल अधिकारी नहीं बल्कि राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के दामाद और राजद कार्यकर्ता ही सरकार चलायेंगे। उन्होंने कहा कि चारा घोटाला वालों के आगे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इतने बेचारा और कमजोर हो गए कि वे सरकारी काम में अनुचित हस्तक्षेप नहीं रोक पाएंगे। श्री मोदी ने कहा कि वन एवं पर्यावरण मंत्री तेजप्रताप यादव की अध्यक्षता वाले प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की पहली समीक्षा बैठक में श्री लालू प्रसाद के दामाद शैलेश कुमार न केवल मौजूद थे बल्कि उसका संचालन कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राजद के छोटे राजकुमार तेजस्वी प्रसाद यादव जब पथ निर्माण और स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा कर रहे थे तब उनकी ठीक बगल में पार्टी कार्यकर्ता संजय यादव मौजूद थे। भाजपा सांसद ने सवालिया लहजे में कहा कि क्या मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंत्री के रिश्तेदारों, पार्टी कार्यकर्ताओं और निजी सचिवों को सरकारी बैठकों में शामिल होने का आदेश जारी कर दिया है, यदि नहीं, तो ऐसा होने पर संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई। उन्होंने कहा कि अब सरकार उनकी है, जो अफसरों को चप्पल मार कर सीधा करने की धमकी दे चुके हैं। किसी आईएएस अधिकारी की मजाल नहीं कि वह सरकारी कामकाज में लालू परिवार का दखल रोक दे। श्री मोदी ने सवाल उठाया, “यह गरीब राज्य एक व्यक्ति के प्रधानमंत्री बनने की महत्वाकांक्षा की कितनी कीमत चुकाएगा। सुशासन का क्या होगा।”

कोई टिप्पणी नहीं: