अंचिता ने कॉमनवेल्थ गेम्स रिकॉर्ड के साथ भारत को दिलाया तीसरा स्वर्ण - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 1 अगस्त 2022

अंचिता ने कॉमनवेल्थ गेम्स रिकॉर्ड के साथ भारत को दिलाया तीसरा स्वर्ण

anchita-shuli-wins-third-gold-for-india
बर्मिंघम, 01 अगस्त, भारोत्तोलक अंचिता शुली ने राष्ट्रमंडल खेलों में 73 किग्रा वर्ग में नया गेम्स रिकॉर्ड बनाते हुए भारत को इन खेलों का तीसरा स्वर्ण पदक दिलाया है। 20 साल के अचिंता शुली ने स्नैच में 143 और क्लीन एन्ड जर्क में 170 किलो सहित कुल 313 किग्रा वजन उठाया। इस स्वर्ण के साथ भारत के कुल 6 मेडल हो गए हैं।भारत का यह मेडल भी वेटलिफ्टिंग में ही आया है। अचिंता शुली ने स्नैच में 143 किलो वजन उठाया। यह कॉमनवेल्थ गेम्स का रिकॉर्ड है। उन्होंने क्लीन एंड जर्क के पहले प्रयास में 166 किलो वजन उठाया। दूसरे प्रयास में फेल होने के बाद तीसरे में उन्होंने 170 किलो का वजन उठाया। अचिंता शुली ने कुल 313 किलो का वजन उठाते हुए कॉमनवेल्थ गेम्स का रिकॉर्ड बनाया। मलेशिया के एरी हिदायत ने सिल्वर मेडल जीता। उन्होंने कुल 303 किलोग्राम वजन उठाया। कनाडा को ब्रॉन्ज मेडल से संतोष करना पड़ा। मुकाबला शुरू होने से पहले ही अचिंता शुली जीत के प्रबल दावेदार माने जा रहे थे। उन्होंने 2021 में कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीता था। 2021 में ही जूनियर वर्ल्ड चैंपियनशिप में उन्होंने अपने नाम सिल्वर मेडल अपने नाम किया था। बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत का यह छठा मेडल है। देश को सभी मेडल वेटलिफ्टिंग में ही मिले हैं। अचिंता शुली से पहले मीराबाई चानू और जेरेमी लालरिनुंगा ने भी वेटलिफ्टिंग में भारत के लिए गोल्ड मेडल जीता था। संकेत महादेव सरगर और बिंदियादेवी रानी ने सिल्वर मेडल जीता था। गुरुराज पुजारी को ब्रॉन्ज मिला था। भारत के तीन गोल्ड, दो सिल्वर और एक ब्रॉन्ज मेडल हो गए हैं। कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में भारत वेटलिफ्टिंग में सबसे ज्यादा मेडल जीतने वाला देश भी है। अभी तक 7 इवेंट हुए हैं और इनके सिर्फ एक में भारत को मेडल नहीं मिला।

कोई टिप्पणी नहीं: