आपको देश देख रहा है : मनोज झा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 2 अगस्त 2022

आपको देश देख रहा है : मनोज झा

country-is-watching-you-manoj-jha
नयी दिल्ली 02 अगस्त, राष्ट्रीय जनता दल(राजद) के मनोज कुमार झा ने राज्यसभा में मंगलवार को महंगाई पर चर्चा के दौरान विपक्षी सदस्यों को आपस में जोर-जोर से बोलने पर झिड़क दिया और कहा कि आपको देश देख रहा है। पीठासीन उप सभापति भुवनेश्वर कालिता ने महंगाई पर चर्चा के दौरान श्री झा को बोलने के लिए पुकारा तो विपक्ष के ही कई सदस्य आपस में जोर-जोर से बात करने लगे। श्री झा ने पीठासीन अधिकारी से सदस्यों को शांत कराने का अनुरोध किया और कहा कि उनका समय अभी शुरू नहीं किया जाना चाहिए। इस पर श्री कालिता ने सदस्यों से आपस में बात नहीं करने का अनुरोध किया और कहा कि श्री झा को बोलने के लिए गया है। इसके बाद श्री झा बोलने के लिए खड़े हो गए और उन्होंने बोलना शुरू कर दिया तब भी विपक्षी सदस्य आपस में बात करते रहे। श्री झा इससे नाराज हो गए और उन्होंने पीठासीन उप सभापति से कहा कि वह नहीं बोल सकते। श्री कालिता ने श्री झा से बोलने का अनुरोध किया और सदस्यों से शांत होने को कहा। इस बार श्री झा खड़े हुए और उन्होंने आपस में बात कर रहे सदस्यों को झिड़कते हुए कहा ,“ आप महंगाई पर चर्चा कर रहे हैं। पूरा देश आपको देख रहा है। इसका आपको ध्यान रखना चाहिए।” गौरतलब है कि मानसून सत्र शुरू होने के बाद से ही महंगाई के मुद्दे पर चर्चा को लेकर सरकार और विपक्ष में गतिरोध बना हुआ था। तीसरे सप्ताह के दूसरे दिन महंगाई पर चर्चा कर यह गतिरोध खत्म हुआ है। श्री झा ने अपने वक्तव्य के दौरान एक आम आदमी नैनसुख की कहानी सुनाई जो लुटियन दिल्ली में गार्ड का काम करता है। उसकी वेतन महज 12000 रुपए है। दो बच्चे तथा पत्नी उसके परिवार में हैं। उन्होंने कहा कि यह व्यक्ति किराए पर रहता है और दोनों बच्चों को पढ़ाता भी है । उन्होंने बताया कि इस महंगाई में उसका घर नहीं चल रहा है। सरकार को ऐसे ही आम आदमियों के बारे में सोचना चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं: