बिहार : एकजुट होकर चुनाव लड़े तो भाजपा का सफाया तय : नीतीश - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 24 अगस्त 2022

बिहार : एकजुट होकर चुनाव लड़े तो भाजपा का सफाया तय : नीतीश

bjp-will-be-wiped-out-if-opposition-fights-unitedly-nitish
पटना 24 अगस्त, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विधानसभा में आज कहा कि यदि विपक्ष वर्ष 2024 का लोकसभा चुनाव एकजुट होकर लड़े तो केंद्र से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का सफाया हो जाएगा। श्री कुमार ने बुधवार को विधानसभा में विश्वास मत पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार काम नहीं कर रही बल्कि केवल प्रचार करने में लगी है। इस सरकार में लोगाें की आमदनी लगातार घटती जा रही है, जिससे लोग सदमे में हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा समाज में झगड़ा कराना चाहती है और फिर उसका लाभ उठाना चाहती है, जिसे हमलोगों को समझना होगा। इसके बारे में हमलोग गांव-गांव जाकर लोगों को बताएंगे। ये लोग राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के विचारों को भी समाप्त कर देंगे। उन्होंने कहा कि विपक्ष के कई दलों से उनकी बातचीत हो रही है। यदि पूरा विपक्ष वर्ष 2024 का लोकसभा चुनाव एकजुट होकर लड़े तो केंद्र में भाजपा कहीं भी नहीं टिक पाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा, “कोई पद धारण करने की मेरी कभी इच्छा नहीं रही लेकिन मेरी एक इच्छा है कि समाज में प्रेम, सौहार्द्र और आपसी भाईचारे की भावना कामय रहे, समाज के सभी वर्ग का विकास हो ताकि बिहार तरक्की की नई ऊंचाइयों को छूए।” उन्होंने कहा कि अब तय हो गया है और हमारा संकल्प है कि हमलोग मिलकर काम करेंगे और बिहार का विकास करेंगे। श्री कुमार ने कहा, “हमारी तकलीफ जान लीजिए, हमारे साथ पहले जो काम करते थे उन्हें वर्ष 2020 में सरकार बनी तो मौका नहीं दिया गया। जिसे (आरसीपी सिंह) अपनी पार्टी में हमने नीचे से ऊपर लाया वह अपनी मर्जी से केंद्र में मंत्री बन गया और उसके बाद उसीके जरिए मेरी पार्टी (जदयू) में गड़बड़ करने की कोशिश की जाने लगी।” उन्होंने कहा कि श्री सुशील कुमार मोदी, श्री प्रेम कुमार, श्री नंदकिशोर यादव, श्री रामनारायण मंडल और श्री विनोद नारायण झा जैसे लोगों को इस बार मंत्री नहीं बनाया गया। सिर्फ दो पुराने लोगों को ही भाजपा से इस बार मंत्रिमंडल में जगह दी गई। इसी तरह श्री नंदकिशोर यादव को पहले विधानसभा अध्यक्ष बनाने की बात हुई लेकिन उनकी जगह पर श्री विजय कुमार सिन्हा को जिम्मेदारी दे दी गई। उन्हें इस पर कुछ नहीं कहना है लेकिन इतना तय है कि भाजपा में भले लोगों को काम करने का मौका नहीं मिलता है। जो अनाप-शनाप बोलते हैं उसे ही आगे बढ़ाया जाता है। 

कोई टिप्पणी नहीं: