बिहार : अमानवीय व्यवहार स्कूलों में बच्चों के साथ - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 20 अगस्त 2022

बिहार : अमानवीय व्यवहार स्कूलों में बच्चों के साथ

chld-abuse-school
सिरसिया: इन दिनों अमानवीय व्यवहार स्कूलों में बच्चों के साथ करते देखा जा रहा है.सभी परिजनों को शिक्षकों से यह उम्मीद की जाती है कि स्कूलों में वे बच्चों को अच्छे आचरण की शिक्षा देंगे और उनमें राष्ट्रीय चरित्र का निर्माण करेंगे.यह शिक्षकों का कर्तव्य भी है कि वे ऐसा करें लेकिन दुर्भाग्य से कई सारे ऐसे मामले सामने आते हैं जिनसे बहुत निराशा होती है और शिक्षकों के व्यवहार व आचरण पर ही सवालिया निशान लग जाता है. कुछ दिन पूर्व ही राजस्थान के जालोर में एक शिक्षक ने 9 साल के दलित छात्र को इतना पीटा की उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई.आरोप है कि मासूम ने स्कूल की पानी की मटकी को छू दिया था. जिसके बाद उसे टीचर ने बुरी तरह से पीटा गया, जिसने अस्पताल में दम तोड़ दिया.यह मसला ठंडा भी नहीं हुआ था कि पंडित ब्रह्मदत्त उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चौलाही, सिरसिया,जनपद श्रावस्ती से   दिल दहला देने वाले मामले फीस को लेकर एक शिक्षक ने मासूम को मार डाला.

 

हुआ यह कि यूपी के श्रावस्ती जिले के सिरसिया थाना क्षेत्र में एक प्राइवेट स्कूल है. इस स्कूल के टीचर का बेरहम चेहरा सामने आया है.सिरसिया के पंडित ब्रह्मदत्त उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के टीचर ने तीसरी कक्षा में पढ़ने वाले छात्र को पीट पीटकर मार डाला.आरोप है कि विद्यालय के टीचर ने 250 रूपये की फीस के लिए बच्चे की इतनी पिटाई कर दी कि उसकी मौत हो गई. शिक्षक पर बच्चों का भविष्य संवारने की जिम्मेदारी होती है. लेकिन श्रावस्ती में एक शिक्षक ने गुरु शब्द को कलंकित कर दिया है. आरोप है कि यहां 13 साल के एक बच्चे को टीचर ने इस कदर पीटा की उसकी जान चली गई. टीचर ने ये बेरहमी महज 250 रुपये की फीस के लिए की है. बताया जा रहा है कि छात्र श्रावस्ती जिले सिरसिया स्थित पं. ब्रह्मदत्त उच्चतर माध्यमिक चौलाही में पढ़ता था. आरोप है कि छात्र बृजेश के घर वालो ने स्कूल की फीस देने में दो दिन देर कर दी थी. इसी बात से गुस्साए टीचर ने क्लास में आते ही छात्र की बेरहमी से पिटाई शुरू कर दी. जबकि छात्र कहता रहा के मेरे भैया ने फीस जमा कर दी है.  यूपी के श्रावस्ती में एक शिक्षक हैवान बन गया और कक्षा 3 में पढ़ने वाले छात्र की इतनी बेरहमी से पिटाई कि की उसकी अस्पताल में मौत हो गई. मृतक के बड़े भाई का आरोप है कि टीचर ने स्कूल फीस को लेकर उसकी पिटाई की थी. मृतक छात्र के भाई ने कहा कि मेरे भाई को उसके शिक्षक ने स्कूल की फीस (250 रुपये प्रति माह) की वजह से पीटा था.मृतक छात्र के भाई राजेश विश्वकर्मा ने बताया कि मैंने उसकी ऑनलाइन फीस दी थी, लेकिन मास्टर को पता नहीं चला और मेरे भाई को बेरहमी से पीटा.शिक्षक की पिटाई से उसका हाथ टूट गया और आंतरिक रक्तस्राव हुआ.उसने उसे मार डाला. वहीं इस घटना पर श्रावस्ती एसपी अरविंद के मौर्य ने जानकारी देते हुए बताया कि सिरसिया थाना क्षेत्र के अपने गांव के पास के एक स्कूल में पढ़ने वाले कक्षा 3 के 13 वर्षीय छात्र की 17 अगस्त को बहराइच के अस्पताल में मौत हो गई थी. उसके चाचा की शिकायत में कहा गया है कि 8 अगस्त को उसके स्कूल के शिक्षक ने उसे पीटा था. मामला दर्ज किया गया, जांच जारी है.  इस मामले में श्रावस्ती के एसपी अरविंद कुमार मौर्य ने बताया के टीचर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. पुलिस मामले की जांच कर कार्रवाई कर रही है. छात्र की मौत के बाद उसकी बॉडी को बहराइच पुलिस ने पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. मृतक के घर वालों का रो-रो कर बुरा हाल है. मृतक के परिजनों ने आरोपी टीचर के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इंसाफ की गुहार लगाई है. 

कोई टिप्पणी नहीं: