बेतिया : कृषि फीडर से 16 घंटे निर्बाध विद्युत आपूर्ति की समीक्षा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 2 अगस्त 2022

बेतिया : कृषि फीडर से 16 घंटे निर्बाध विद्युत आपूर्ति की समीक्षा

bettiah-news-today
बेतिया: पश्चिम चंपारण जिले के जिलाधिकारी के द्वारा धान रोपनी-कवरेज की स्थिति, कृषि फीडर से 16 घंटे निर्बाध विद्युत आपूर्ति, नहरों में सिंचाई जल की उपलब्धता, आकस्मिक फसल योजना आदि की समीक्षा की गयी. जिलाधिकारी, श्री कुंदन कुमार द्वारा आज धान रोपनी-कवरेज की स्थिति, कृषि फीडर से 16 घंटे निर्बाध विद्युत आपूर्ति, नहरों में सिंचाई जल की उपलब्धता, डीजल अनुदान योजना, आकस्मिक फसल योजना आदि के कार्य प्रगति की समीक्षा की गयी. इस अवसर पर उप विकास आयुक्त, श्री अनिल कुमार सहित जिला कृषि पदाधिकारी, श्री विजय प्रकाश, जिला सांख्यिकी पदाधिकारी, श्री लालदेव रजक, कार्यपालक अभियंता, विद्युत, श्री मनीष शाक्य आदि उपस्थित रहे. समीक्षा के क्रम में जिला कृषि पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि जिले में खरीफ मौसम में धान रोपनी के निर्धारित लक्ष्य का 97 प्रतिशत हासिल किया जा चुका है. इसी तरह 82 प्रतिशत मक्का बुआई, 69 प्रतिशत दलहन तथा 67 प्रतिशत तिलहन का लक्ष्य प्राप्त किया जा चुका है. जिलाधिकारी द्वारा 97 प्रतिशत धान रोपनी की उपलब्धि पर संतोष व्यक्त किया गया तथा निर्देश दिया गया कि शेष लक्ष्य की प्राप्ति भी सुनिश्चित किया जाय. इसके साथ ही मक्का, दलहन एवं तिलहन में भी निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप शत-प्रतिशत आच्छादन कराना सुनिश्चित किया जाए. कृषि फीडर से 16 घंटे निर्बाध विद्युत आपूर्ति की समीक्षा के दौरान कार्यपालक अभियंता, विद्युत द्वारा बताया गया कि जिले में अब तक लगभग 5600 कृषकों को विद्युत कनेक्शन उपलब्ध करा दिया गया है तथा कृषक इसका लाभ प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि कृषकों को कृषि फीडर से 16 घंटे (प्रातः 05.00 बजे से रात्रि 09.00 बजे तक) निर्बाध विद्युत आपूर्ति की जा रही है. जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि इसे हर हाल में बरकरार रखना हैं. प्रयास ऐसा होना चाहिए कि 16 घंटे से ज्यादा विद्युत आपूर्ति हो जायें परंतु कम नहीं होना चाहिए. इससे कृषकों को निर्बाध 16 घंटे प्रॉपर वोल्ट के साथ विद्युत सप्लाई हो सकेगी. उन्होंने कहा कि कृषि टास्क फोर्स की बैठक नियमित रूप से आयोजित किया जाय. इस बैठक में कृषि, ऊर्जा, सिंचाई, आपदा आदि संबंधित विभागों के अधिकारी अद्यतन प्रगति प्रतिवेदन के साथ भाग लेंगे। उन्होंने निर्देश दिया कि जिला कृषि पदाधिकारी कृषि समन्वयकों के साथ बैठक करें. उन्हें डीजल अनुदान, 16 घंटे बिजली, यूरिया की उपलब्धता आदि के बारे में बताएं तथा उनसे फीडबैक लें. जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि  आकस्मिक फसल योजना के तहत भी तैयारी अपडेट रखी जाय.

कोई टिप्पणी नहीं: