सीबीआई ने रेलवे के तीन अधिकारियों सहित छह को किया गिरफ्तार - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 2 अगस्त 2022

सीबीआई ने रेलवे के तीन अधिकारियों सहित छह को किया गिरफ्तार

cbi-arrested-six-including-three-railway-officials
नयी दिल्ली 01 अगस्त, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने कथित रिश्वत मामले में पूर्व मध्य रेलवे के मुख्य माल परिवहन प्रबंधक समेत छह लोगों को सोमवार को गिरफ्तार किया। आरोपियों की पहचान मुख्य माल परिवहन प्रबंधक संजय कुमार (आईआरटीएस), सीनियर डीओएम रूपेश कुमार (आईआरटीएस), सीनियर डीओएम सचिन मिश्रा (आईआरटीएस) यह तीनों बिहार में तैनात थे तथा नवल लधा, मनोज कुमार साहा एवं मनोज लधा के रूप में हुई है। वसूली की आदत के आरोप में पूर्व मध्य रेलवे, हाजीपुर के एक सीएफटीएम और दो वरिष्ठ डीओएम, समस्तीपुर व सोनपुर, दोनों ईसी रेलवे, एक निजी कंपनी के निदेशक तथा अन्य निजी व्यक्ति के खिलाफ 31 जुलाई को एक मामला दर्ज किया गया था। सीबीआई के बयान में कहा गया है कि माल लदान के लिए रेलवे रैक के तरजीही आवंटन के लिए ईसीआर के विक्रेताओं से अवैध वसूली की जाती थी। आरोप लगाया गया कि एक निजी कंपनी के उक्त निदेशक ने अपने भाई (निजी व्यक्ति) को ईसीआर के विभिन्न अधिकारियों को वितरित करने के लिए 23.5 लाख रुपये भेजने का निर्देश दिया। सीबीआई ने जाल बिछाया और सीएफटीएम को उस समय पकड़ा जब वह छह लाख रुपये की कथित रिश्वत ले रहा था। रिश्वत देने वाला भी पकड़ा गया। बाद में तीन अन्य आरोपियों को पकड़ लिया गया। इस मामले में पटना, सोनपुर, हाजीपुर, समस्तीपुर और कोलकाता सहित 16 स्थानों पर तलाशी ली गई, जिसमें कोलकाता के एक व्यवसायी से विभिन्न आपत्तिजनक दस्तावेज और 29 लाख रुपये सहित 46.50 लाख रुपये बरामद हुए। बयान में कहा गया है कि एक एसयूवी कार जिसमें ईसीआर के विभिन्न अधिकारियों को दी जाने वाली कथित नकदी वाले छह लिफाफे भी बरामद किए गए।

कोई टिप्पणी नहीं: