लोकतंत्र ही नहीं सभ्यता पर भी संकट आ गया है : अशोक वाजपेयी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 10 अगस्त 2022

लोकतंत्र ही नहीं सभ्यता पर भी संकट आ गया है : अशोक वाजपेयी

democracy-civilization-has-also-been-in-crisis-ashok-bajpai
नई दिल्ली 10 अगस्त, देश के जाने-माने बुद्धिजीवियों ने ‘लोकतंत्र’ को बचाने के लिए लोगों से एक बार फिर भारत छोड़ो आंदोलन की शुरूआत करने का आह्वान किया है और कहा है कि जो लोग बात-बात में हमें पाकिस्तान भेजने की बात कहते हैं उनके खिलाफ हमें ‘भारत छोड़ो ’ का नारा देना चाहिए। हिंदी के प्रख्यात लेखक, संस्कृतिकर्मी अशोक वाजपेयी ,जानी मानी इतिहासकार मृदुला मुखर्जी, इंटरनेशनल बूकर प्राइज से सम्मानित लेखिका गीतांजलि श्री और साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित लेखिका मृदुला गर्ग ने मंगलवार शाम भारत छोड़ो आंदोलन एवं हिंदी भूषण शिवपूजन सहाय स्मृति समारोह में यह आह्वान किया। समारोह में नेहरू खानदान की रामेश्वरी नेहरू द्वारा 1909 में शुरू की गई पत्रिका ‘स्त्री दर्पण’ के नए अंक का लोकार्पण भी किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं: