मोदी सरकार के खिलाफ भी ‘करो या मरो’ आंदोलन जरूरी : राहुल गांधी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 8 अगस्त 2022

मोदी सरकार के खिलाफ भी ‘करो या मरो’ आंदोलन जरूरी : राहुल गांधी

do-or-die-movement-necessary-against-modi-government-rahul
नयी दिल्ली, 08 अगस्त, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के अंग्रेजों के खिलाफ ‘करो या मरो’ जैसे आंदोलन की तरह मोदी सरकार के विरुद्ध भी आंदोलन करने की जरूरत है। श्री गांधी ने फेसबुक पोस्ट में कहा, “ इतिहास का वह पन्ना जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता- 'भारत छोड़ो’ आंदोलन आठ अगस्त 1942 को बॉम्बे से शुरू हुए इस आंदोलन ने अंग्रेज़ों की नींद उड़ा दी थी। अगस्त की उस शाम को बॉम्बे के गोवालिया टैंक मैदान में लोगों का जुटना शुरू हुआ, गांधी जी ने 'करो या मरो' का नारा दिया और बस हिंदुस्तान में अंग्रेज़ी हुकूमत का आख़िरी अध्याय शुरू हो गया। ” उन्होंने कहा, “ आज हिंदुस्तान की तानाशाही सरकार के खिलाफ और देश की रक्षा के लिए एक और 'करो या मरो' जैसे आंदोलन की ज़रूरत है, अब समय आ गया है जब, अन्याय के खिलाफ़, बोलना ही होगा। तानाशाही, महंगाई और बेरोज़गारी को भारत छोड़ना ही होगा। ” कांग्रेस नेता ने कहा कि गांधी जी के आह्वान पर अपनी ज़िन्दगी की परवाह किए बग़ैर लाखों देशवासी इस आंदोलन में कूद पड़े, इस आंदोलन में लगभग 940 लोग शहीद हुए और हज़ारों गिरफ्तारियां हुई। उन्होंने कहा, “आज, भारत छोड़ो आंदोलन की वर्षगांठ पर मैं उन स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि देता हूं, जिन्होंने देश की आज़ादी के लिए अपने प्राणों की आहूति दी थी। ” 

कोई टिप्पणी नहीं: