बिहार : पोस्टर से जदयू ने पेश की नीतीश की पीएम दावेदारी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 2 सितंबर 2022

बिहार : पोस्टर से जदयू ने पेश की नीतीश की पीएम दावेदारी

jdu-presents-nitishs-pm-claim-with-poster
पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के 2024 लोकसभा चुनाव में विपक्ष का साझा उम्मीदवार बनने की चर्चाओं के बीच गुरुवार को जदयू कार्यालय के सामने नया पोस्टर लगाया गया है। इस पोस्टर में लिखा है कि – प्रदेश में दिखा है, देश में दिखेगा। वहीं, दूसरे पोस्टर में लिखा है कि – आश्वासन नहीं सुशासन। दरअसल, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आगामी लोकसभा चुनाव में पीएम मोदी के खिलाफ विपक्ष का चेहरा बनेंगे या नहीं इसको लेकर अभी तक कोई आधिकारिक जानकारी उनके तरफ से नहीं दिया गया है, लेकिन इसके बावजूद जदयू के नेताओं द्वारा यह बार-बार कहा जा रहा है कि बिहार के मुख्यमंत्री के पास वह सारे गुण मौजूद हैं जो पीएम बनने के लिए जरूरी होता है। अब इस बात की सर्वजनिक पुष्टि के लिए एक पोस्टर भी लगाया गया है जिसमें कहा गया है कि प्रदेश में दिखा है और देश में दिखेगा या पोस्टर साफ इशारा कर रहा है कि आने वाले चुनाव में नीतीश कुमार लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार हो सकते हैं। हालांकि से कितनी सच्चाई है यह तो भविष्य के गर्भ में ही मौजूद है। इधर, जदयू के पार्टी ऑफिस पर लगा कर दूसरे पोस्टर की बात करें तो इसमें लिखा है कि आश्वासन नहीं सुशासन। या पोस्टर विशेषकर भाजपा नेताओं द्वारा नीतीश कुमार की सरकार पर लगाए जा रहे आरोपों पर जवाब देने के मद्देनजर लगाया गया हो सकता है। क्योंकि पिछले देना है या नहीं 10 अगस्त जब देश कुमार एनडीए से नाता तोड़कर महागठबंधन में शामिल दलों के सहयोग से नई सरकार का गठन किए हैं तभी से भाजपा के नेता उन पर काफी हमलावर हो गए हैं और उनकी सरकार को वापस सही जंगलराज की सरकार कह कर तरह-तरह के आरोप लगा रहे हैं। ऐसा हो सकता है कि इसी के जवाब को लेकर यह पोस्टर जदयू कार्यालय के बाहर लगाया गया हो। हालांकि इस बात का दावा स्वत्व समाचार नहीं करती है। वहीं, इस पोस्टर को लेकर कुछ राजनीतिक जानकारों की माने तो आगामी 3 और 4 सितंबर से होने वाले जदयू के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक से पहले लगाया यह पोस्टर इस बात को साफ-साफ निर्देशित कर रहा है कि इस बार का बैठक का मुख्य मुद्दा क्या होगा और इसके अलावा जो बातें जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह या फिर संसदीय दल के नेता उपेंद्र कुशवाहा और बिहार के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा द्वारा नीतीश कुमार को लेकर घुमा फिराकर कहा जा रहा है उसका भी प्रमाण यह पोस्टर दे रहा है। बहरहाल, अब देखना यह है कि गज्जू के तरफ से लगाए गए इस पोस्टर पर भाजपा की क्या प्रतिक्रिया आती है और उसके जवाब में जदयू कितनी तैयारी के साथ सामने आती है और क्या यह पोस्टर सही मायने में यह प्रदर्शित करने को लगाया गया है कि सीएम नीतीश पर पीएम बनने की राह पर चल चुके हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: