बिहार में बाढ-सुखाड़, नीतीश दिल्ली के राजनीतिक पर्यटन पर : सुशील - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 6 सितंबर 2022

बिहार में बाढ-सुखाड़, नीतीश दिल्ली के राजनीतिक पर्यटन पर : सुशील

bihar-floods-nitish-on-delhi-political-tourism-sushil
पटना 06 सितंबर, बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने वर्ष 2024 लोकसभा चुनाव के लिए विपक्षी दलों को एकजुट करने की मुहिम में लगे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की आलोचना करते हुए कहा कि जब बिहार बाढ और सूखे की दोहरी मार झेल रहा है, तब श्री कुुमार केवल सुर्खियों में रहने के लिए दिल्ली के राजनीतिक पर्यटन पर हैं। श्री मोदी ने मंगलवार को बयान जारी कर कहा कि 1960 के दशक में डा. राम मनोहर लोहिया और 1974-77 के बीच लोकनायक जयप्रकाश नारायण ने जिस कांग्रेस के खिलाफ लंबी लड़ाई लड़ी, उसके नेतृत्व की सबसे नकारा पीढ़ी के आगे श्री लालू प्रसाद यादव के बाद अब श्री नीतीश कुमार का नतमस्तक होना अत्यंत दुखद है। उन्होंने कहा कि श्री नीतीश कुमार उन दलों को कांग्रेस के साथ लाने के असम्भव अभियान ( मिशन इम्पॉसिबल) पर हैं, जो विभिन्न राज्यों में कांग्रेस से लड़ कर ही सत्ता में हैं। केरल, पश्चिम बंगाल, दिल्ली इसके प्रमाण हैं। भाजपा सांसद ने कहा कि श्री नीतीश कुमार का पूर्व पीएम एचडी देवेगौड़ा से मिलना इस बात का संकेत है कि वे केंद्र में अस्थिर और कमजोर सरकारों वाला दौर लौटा कर देश के पुराने शत्रुओं की मदद करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि 1990 के दशक में देवगौड़ा-गुजराल समेत 6 प्रधानमंत्री हुए थे। श्री नीतीश कुमार उस दौर से बाहर नहीं निकल पाए जबकि 2014 के बाद देश बहुत आगे निकल चुका है। श्री मोदी ने कहा कि श्री नीतीश कुमार उस कांग्रेस से मिल रहे हैं, जो केवल दो राज्यों में सिमट चुकी है। वे उन वाम दलों को भी जोड़ना चाहते हैं, जिनका वजूद खत्म हो रहा है। उन्होंने कहा," जदयू का नीतीश कुमार को राष्ट्रीय राजनीति में भेजना एक मनोरंजक प्रयोग है, "दिल बहलाने को गालिब ये खयाल अच्छा है..।"

कोई टिप्पणी नहीं: