प्रतापगढ़ : न्यायाधीश द्वारा आवासीय छात्रावासों का औचक निरीक्षण - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 13 सितंबर 2022

प्रतापगढ़ : न्यायाधीश द्वारा आवासीय छात्रावासों का औचक निरीक्षण

प्रतापगढ़, राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जयपुर के निर्देशानुसार श्री शिवप्रसाद तम्बोली- सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, (अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश) ने आज बालक एवं बालिका छात्रावासों का औचक निरीक्षण किया। प्रतापगढ़ जिला मुख्यालय पर स्थित राणा पूंजा महाविद्यालय बालक छात्रावास एवं रानी देवली जनजाति बालिका छात्रावास प्रतापगढ़ पर आज प्राधिकरण सचिव द्वारा औचक निरीक्षण ंिकया गया। दौराने निरीक्षण बालक छात्रावास में उपस्थित छात्रों से प्रत्यक्ष वार्ता के जरिये उनके रहने खाने पीने आदि बुुनियादी सुविधाओं के बारे में जाना। उपस्थित छात्रों ने महाविद्यालय में नियमित कक्षाएं नहीं चलना बताया। केवल संस्कृत एवं राजनीति शास्त्र की कक्षाएं संचालित होती है। जो सप्ताह में तीन दिवस ही चलती हैं। इससे छात्रों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। छात्रावास में लगभग सभी कमरे बारीश में टपकते हैं और सीलन भी रहती है। पढाने हेतु कोच की व्यवस्था भी नहीं है। छात्रावास अधीक्षक धनराज मीणा एवं चौकीदार वक्त निरीक्षण अनुपास्थित पाये गये।  इसी दिवस स्थानीय रानी देवली राजकीय जनजाति बालिका छात्रावास जवाहर नगर, अशोक नगर प्रतापगढ़ पर भी निरीक्षण ंिकया गया। कुल 100 में से 82 बालिकाएं उपस्थित पाई गईं। जहां उपस्थित बालिकाओं ने छात्रावास अधीक्षिका के पति का छात्रावास में आना जाना बताया। अभी तीन-चार दिवस पूर्व भी अधीक्षिका पति छात्रावास में आये थे और अक्सर आते हैं और अधीक्षिका के साथ ही बैठते हैं। इस पर प्राधिकरण सचिव ने नाराज़गी जाहिर करते हुए अधीक्षिका को सख्त निर्देश दिये ंिक छात्रावास में उनके पति या अन्य कोई भी पुरूष को प्रवेश नहीं करने दें। छात्राओं ने बताया ंिक छात्रावास के एक कमरे में पानी टपकता है और खिड़की के कांच टूटे होने से बारीश का पानी भी अन्दर आता है। छात्राओं ने पर्याप्त नाश्ता नहीं मिलना बताया, जिस पर प्राधिकरण सचिव द्वारा अधीक्षिका को पर्याप्त नाश्ता देने हेेतु कहा। रसोई व डाईनिंग हॉल के पंखे भी बन्द हैं, जिन्हें दुरूस्त कराने के निर्देश दिये गये। दौराने निरीक्षण चौकीदार भी अनुपस्थित पाया गया। कोच के बारे में जानकारी में आया ंिक वह प्रातः जल्दी आकर योगा और प्रार्थना करवाकर चली जाती हैं, शाम को दो घण्टे के लिये ही आती हैं। इस हेतु भी अधीक्षिका को आवश्यक निर्देश प्रदान ंिकये। 

कोई टिप्पणी नहीं: