मधुबनी : विकास योजनाओं को ससमय गुणवत्ता के साथ पूर्ण करने का निर्देश - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 12 सितंबर 2022

मधुबनी : विकास योजनाओं को ससमय गुणवत्ता के साथ पूर्ण करने का निर्देश

  • तकनीकी विभागों की पदाधिकारियो की बैठक में डीएम ने दिए कई निर्देश।                 
madhubani-news
मधुबनी :
जिला पदाधिकारी अरविन्द कुमार वर्मा की अध्यक्षता में समाहरणालय स्थित सभाकक्ष में जिले के तकनीकी विभाग से संबंधित सभी पदाधिकारियों की समीक्षा बैठक आयोजित हुई। जिलाधिकारी द्वारा जिले के सड़क, पुल पुलिए, नल जल योजना, भारत माला योजना, मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजना, कोशी नहर प्रमंडल, वुडको, विद्युत आपूर्ति, महादलित विकास मिशन, कब्रिस्तान की घेराबंदी आदि सहित अन्य लोक कल्याणकारी योजनाओं में आ रही तकनीकी समस्याओं की व्यापक समीक्षा की गई। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी अधिकारियों के प्रयास से जन सरोकार की बहुत सी योजनाओं को सफलीभूत7 किया जा सकता है एवम जिले में विकास की गति में तेजी लाई जा सकती है।  समीक्षा के क्रम में उन्होंने कहा कि कई बार ऐसा देखा जाता है कि प्रशासनिक स्वीकृति मिल जाने के बाद जब संबंधित संवेदक कार्यस्थल पर जाते हैं तो स्थल पर मौजूद अत्यधिक गड्ढे जैसी तकनीकी खामियों के कारण कार्य संपादित करने में अपनी असमर्थता व्यक्त करते हैं। उन्होंने सभी पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि किसी भी योजना को प्रशासनिक स्वीकृति प्रदान करने से पूर्व निर्माण स्थल की पूरी जांच पड़ताल कर लें। जिससे भविष्य में कार्य पूर्ण करवाने में कोई व्यवहारिक कठिनाई न आए।  जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि जिले के ऐसे सभी सड़कों की सूची जिला को उपलब्ध कराई जाए जो वर्तमान में संवेदक के मेटेनेंस के समय सीमा के अंतर्गत आता हो। उन्होंने स्पष्ट किया कि वे खुद जिले में अपने भ्रमण कार्यक्रम के दौरान सड़कों का जायजा लेंगे और यदि कोई सड़क संवेदक की उपेक्षा का शिकार पाई गई तो संबंधित संवेदक पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दिया कि बुधवार को लगने वाले कैंप तथा सप्ताह के आम दिनों में भी वे सड़कों की स्थिति का जायजा लेते रहते है। यदि कोई सड़क मैटेनेंस के आभाव में उपेक्षित हो तो जिला को प्रतिवेदीत करें। जिलाधिकारी ने कहा कि जिले के लोगों को सुगम यातायात के लिए गुणवत्तापूर्ण सड़कें उपलब्ध करवाना जिला प्रशासन की प्राथमिकता में है। इस परिप्रेक्ष्य में संवेदनशीलता दिखाते हुए उन्होंने जिला विकास शाखा के स्तर से आए दिन दैनिक समाचारपत्रों में सड़क और पुल पुलिया की बदहाली की खबरों का संज्ञान लेते हुए संबंधित पथ निर्माण विभाग से इसे दुरुस्त करवाने संबंधी अनुपालन को सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। उनके द्वारा अररिया संग्राम में निर्मित मिथिला हाट के अप्रोच पथ की प्रगति की समीक्षा भी की गई।  उन्होंने कार्यपालक अभियंता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी प्रमंडल को निर्देश दिया कि नल जल योजना से सम्बंधित मानदेय भुगतान समय से किए जाएं। योजना में छोटी मोटी त्रुटियों को जल्द सुधारा जाए। जिन घरों तक नल की पंहुच अभी तक नहीं हो पाई है, उन तक पहुंच सुनिश्चित की जाए। उन्होंने नल जल की मीनारों पर बड़े और साफ अक्षरों में शिकायत निवारण हेतु दूरभाष नंबर पेंट करवाने के भी निर्देश दिए हैं।  जिलाधिकारी ने जिले के सभी कार्यपालक अभियंता विद्युत आपूर्ति प्रमंडल को निर्देश दिया कि जिले में लोगों के बीच स्मार्ट मीटर को लेकर जो भी भ्रांतियां हैं, उसे दूर करने का प्रयास किया जाए। उन्होंने निर्देश दिया कि इसको लेकर जिले के सभी सरकारी कार्यालयों को आगे बढ़कर पहल करते हुए स्मार्ट मीटर लगवाने चाहिए। जिससे आम जनों में स्मार्ट मीटर को लेकर जागरूकता आए। उन्होंने बेहतर विद्युत आपूर्ति के लिए नए पवार सब स्टेशन के निर्माण की दिशा में शीघ्रता से कदम उठाने के निर्देश दिए हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: