याद किए गए स्वर्गीय मुन्नालाल मौर्य, लोगों ने व्यक्तित्व व जीवन पर किया बखान - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

गुरुवार, 15 सितंबर 2022

याद किए गए स्वर्गीय मुन्नालाल मौर्य, लोगों ने व्यक्तित्व व जीवन पर किया बखान

  • - जयंती समारोह पर नम आँखों से बहें लोगों के आँसू 
  • - विधायक ऊषा मौर्य ने मरीजों में बांटा फल 

अपने पति एवं उत्तर प्रदेश शासन में पूर्व मंत्री रहे स्वर्गीय मुन्ना लाल मौर्य की 58वीं जयन्ती समारोह के अवसर पर सर्वप्रथम जिला चिकित्सालय पहुंचकर विधायक ऊषा मौर्य एवं उनके बड़े बेटे विकल्प मौर्य व अन्य कई सपा नेताओं आदि के साथ भर्ती मरीजों का हालचाल जानते हुए फल वितरित किया।  इस दौरान नगर पालिका परिषद फतेहपुर के चेयरमैन प्रतिनिधि हाजी रजा, पूर्व प्रत्याशी बिंदकी दयालू गुप्ता, आफाक, रामानन्द मौर्य, अरुण मौर्य सहित कई अन्य नेता व गणमान्य लोग उपस्थित रहें।

tribute
फतेहपुर। उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री रहे स्वर्गीय मुन्नालाल मौर्य की 58वीं जन्म जयंती के अवसर पर अनेक कार्यक्रम किए गए। जहां उनके व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रकाश डाला गया। वहीं उनकी धर्मपत्नी एवं विधायक ऊषा मौर्या के नेतृत्व में समाधि पर जाकर पुष्पांजलि अर्पित की गई। इस दौरान कवियों ने भी अपनी रचनाओं से उन्हें याद किया। उनकी स्मृति में सभी कार्यक्रम सुल्तानपुर घोष स्थित रामपाल मौर्य महाविद्यालय में आयोजित किए गए। समाधि पर पुष्पांजलि के बाद आयोजित विचार गोष्ठी में विधायक ऊषा मौर्या ने कहा कि आप सब ने विधायक बनाकर मेरे स्वर्गीय पति व अपने चहेते नेता मुन्नालाल मौर्य को सच्ची श्रद्धांजलि दी है। क्षेत्र से लेकर विधानसभा तक आपकी समस्याओं का समाधान कराने की पूरी कोशिश करूंगी। वे जनता के सुख दुख में हमेशा शामिल रहेंगी। उन्होंने जयंती समारोह में आने के लिए लोगों का आभार व्यक्त किया। संचालन डॉ राजेश शर्मा ने किया। इसके पहले युवा सपा नेता विकल्प मौर्या ने कहा कि उनके पिताजी असफलता से कभी निराश नहीं होते थे। उन्होंने बालिकाओं की शिक्षा के लिए प्रयास किया और इंटर कॉलेज की स्थापना की। वहीं रायबरेली के दिलीप मौर्य ने कहा कि मुन्नालाल मौर्या क्रांतिकारी सोच के व्यक्ति थे।उनके अंदर हमेशा शोषित, दलित एवं पीड़ित समाज के लोगों के प्रति सम्मान रहा है। समाज के लिए कुछ करने का जज्बा था। वहीं पूर्व सपा जिला अध्यक्ष वली उल्लाह ने कहा कि वे जमीन से उठकर संघर्ष के बल पर मंत्री तक पहुंचे। उनका तरीका बड़ा ही दोस्ताना था। वे एक तरह से जन नेता थे। इसके अलावा गुरु प्रसाद चौरसिया ने कहा कि स्वर्गीय श्री मौर्य मानवता के लिए समर्पित रहे और भाईचारे का संदेश देकर गए हैं। हर इंसान को इंसान के काम आना चाहिए, इंसानियत सबसे बड़ी चीज है। रामनारायण मौर्य ने मंत्री जी के साथ बिताए हुए पलों को भी याद किया। वे हमेशा सोचा करते थे कि समस्या कौन पैदा कर रहा है और समस्या पैदा करने वाले पर प्रहार करते थे। सभा को संबोधित करते हुए सपा नेता पप्पू सिंह चौहान ने कहा कि मुन्नालाल मौर्य ने शिक्षा का मंदिर बनाया इससे बड़ा कोई मंदिर नहीं हो सकता। इस मौके पर वरिष्ठ अधिवक्ता राजकुमार मौर्य, सपा नेता इंदल सिंह, जिला पंचायत सदस्य अशोक यादव, वीरेंद्र सिंह अमीन, नेपाली सिंह, अखिलेश मौर्य, रिजवान भाई, भीम सिंह यादव, फरमानुल हक अध्यक्ष विधानसभा हुसेनगंज, मतीन अहमद विधानसभा अध्यक्ष खागा, रमेश लोधी, मान सिंह यादव, समरजीत सिंह, मनोज मौर्य, योगेंद्र नाथ मौर्य लाला, आदर्श ठाकुर, प्रधान राजेंद्र मौर्य, शमीम अहमद, जीतेंद्र उन्नाव, धुन्नी मौर्य, विपिन कुशवाहा, अंकित यादव, नर सिंह यादव, नदीम उद्दीन, पप्पू सिंह, रंजीत सिंह चौहान, संतोष यादव, ज्ञान प्रकाश, तेज प्रधान, मनोज मौर्य प्रधान, गोरे लाल पूर्व प्रधान, राजेन्द्र मौर्य पूर्व जिला पंचायत सदस्य, सुरेन्द्र प्रधान, अजीत यादव, राजेश प्रधान, पप्पू प्रधान, असलम प्रधान, संजीत यादव प्रधान, पिंटू गुप्ता, गजनफ़र, शमीम हाशमी, चंद्रशेखर फ़ौजी जिला पंचायत सदस्य, गुरु प्रसाद चौरसिया आदि अनेकों प्रधान एवं विशिष्ट लोग मौजूद रहे। शिव शरण बंधु,शिवम हथगामी,अनुज साहू शम्स ने रचना पाठ किया।

कोई टिप्पणी नहीं: