मधुबनी : नवनियुक्त राजस्व कर्मचारी को आपदा प्रबंधन को लेकर दी गई प्रशिक्षण - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 25 अक्तूबर 2022

मधुबनी : नवनियुक्त राजस्व कर्मचारी को आपदा प्रबंधन को लेकर दी गई प्रशिक्षण

Madhubani-revenue-training
मधुबनी, नवनियुक राजस्व कर्मचारी का प्रशिक्षण मिथिला चित्र कला संस्थान सौराठ मधुबनी में दिनाँक 13-10-2022 से शुरू किया गया है जो 28-10-2022 चलेगा। इसके नोडल ऑफिसर  डीसीएलआर सदर को बनाया गया है। इसी क्रम में आज सभी नवनियुक्त राजस्व कर्मचारियों को  आपदा प्रबंधन अधिनियम के मुख्य प्रावधान के साथ-साथ आपदा प्रबंधन में कर्मचारी की भूमिका एवं विभिन्न प्रकार की पंजियो का रखरखाव आदि की विस्तार से जानकारी दी गई। जिला जनसंपर्क पदाधिकारी सह प्रभारी पदाधिकारी  जिला आपदा शाखा परिमल कुमार द्वारा आपदा प्रबंधन अधिनियम के प्रावधान के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई। उन्होंने बताया कि आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के अनुसार आपदा प्रबंधन के लिए त्रिस्तरीय ढांचा का गठन किया गया है ।राष्ट्र स्तर पर राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण, राज्य स्तर पर राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण एवं जिला स्तर पर जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण का गठन किया गया है। बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण का गठन आपदा प्रबंधन विभाग की अधिसूचना संख्या 3449 दिनांक 6 नवंबर 2007 द्वारा किया गया है। राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण राज्य में आपदा प्रबंधन के लिए नीतियों का निरूपण करती है साथ ही आपदा जोखिम न्यूनीकरण के लिए योजनाएं तैयार करना एवं उन्हें क्रियान्वित करवाना उसका मुख्य कार्य है। जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकार प्राधिकरण जिले के लिए जिला रिस्पॉन्स योजना सहित आपदा प्रबंधन योजना तैयार करता है ।राष्ट्रीय नीति राज्य की नीति, राष्ट्रीय योजना ,राज्य योजना एवं जिला योजना के कार्य  का समन्वय और अन्वेषण करता है ।जिला स्तर पर सरकारी विभागों द्वारा तैयार की गई आपदा प्रबंधन के कार्यो का  अनुश्रवण भी करता है ।उन्होंने कहा कि प्राकृतिक आपदाओं को हम रोक नहीं सकते परंतु हम इन आपदाओं के जोखिम और उसके कुप्रभाव को बेहतर आपदा प्रबंधन के द्वारा काफी कम कर सकते हैं। उन्होंने बाढ़ भूकंप अग्निकांड भीड़ प्रबंधन आदि के प्रासंगिक कार्य पर विस्तार से जानकारी दी। राजस्व अधिकारी शिवम कुमार ने भी इस संबंध में राजस्व कर्मचारियों की भूमिका एवं उनके उत्तरदायित्व पर व्यापक प्रकाश डाला। इस अवसर पर उपस्थित आपदा के वरीय कर्मी आनंद कुमार झा ,राकेश कुमार ने भी अपने अनुभवों को साझा किया। 

कोई टिप्पणी नहीं: