विचारधारा की जंग विचारधारा से जीती जा सकती है, जातीय समीकरण से नहीं: प्रशांत किशोर - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 26 नवंबर 2022

विचारधारा की जंग विचारधारा से जीती जा सकती है, जातीय समीकरण से नहीं: प्रशांत किशोर

prashant-kishore
नकरदेई, पूर्वी चंपारण। पूर्वी चंपारण के सुगौली प्रखंड के नकरदेई गांव में प्रशांत किशोर ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा, "भाजपा को हराने के लिए आंख बंद करके पिछले 30 सालों से आप लालटेन का बटन दबा रहे हैं। लेकिन देखिए 2 सांसद की पार्टी 300 सांसद की पार्टी बन गई और आपका विकास भी नहीं हुआ। कहने का तात्पर्य है कि 'ना माया मिली ना राम'। आपको यह बात समझना होगा कि जिस पार्टी से आपकी लड़ाई है, वह विचारधारा पर आधारित पार्टी है, जातियों का संगठन नहीं है। जिससे लड़ने के लिए आप कुश्ती में उतरे हैं। अगर उसका दांवपेच जाने बगैर कुश्ती उतरेंगे तो हार निश्चित है। इसलिए आपके पास एक ही विकल्प है कि आप एक विचारधारा के आधार पर एक काउंटर विचारधारा  खड़ा कीजिए और उसका सबसे बेहतर विकल्प गांधी की विचारधारा है, और जन सुराज गांधी की विचारधारा का एक स्वरूप है।

कोई टिप्पणी नहीं: