नाबार्ड की परियोजना, किसानो से आजिविका संवर्धन पर बैठक - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 26 नवंबर 2022

नाबार्ड की परियोजना, किसानो से आजिविका संवर्धन पर बैठक

Nabard-project
आनंदपुरी 26 नवंबर : वागधारा संस्था ने नाबार्ड के सहयोग से वाडी परियोजना शुरू की है उसका जायजा फाँलोअप लेने के लिए नाबार्ड के राज्यमहाप्रबधंक व्ही.डी .नेगी, जिला प्रबंधक विश्राम मीना, वागधारा संस्था के कृषी एवं पोषण विषेतज्ञ पी एल पटेल  ,सोहननाथ योगी, वाडी परियोजना कार्यक्रम अधिकारी प्रल्हाद रानावत के उपस्थिति में मानगढ वाडी विकास परियोजनाओं में लाभान्वित किसानो के साथ बैठक संपन्न हुई । पि. एल पटेल ने  परियोजना का उद्देश्य आदिवासी विकास में मूल्य श्रृंखला को मजबूत करना है। वहीं आनंदपुरी ब्लाँक के 10 पंचायतो के 500 किसानो एवं परिवारों के वित्तीय विकास को बढ़ावा देना है। इस पहल के माध्यम से किसानों को हर गांव में ग्राम विकास एवं बाल अधिकार  समितियां  के माध्यम से संगठित किया गया है। जो सरकारी योजनाओं से लोगो को जोडा जाता है। नाबार्ड जिला प्रबंधक विश्राम मीना ने आजिविका बढाने हेतू कृषी कार्य सुधार और पशुपालन वानिकी पौधे कृषको कि आमदनी में बढोतरी हो सकती हैं ईसके बारे में बताया वागधारा के हिरण ईकाई लिडर सोहननाथ ने  बताया की वाडी परियोजना के माध्यम से एक स्थायी आजीविका का नेतृत्व करने के लिए आदिवासियों को सशक्त बनाने पर मुख्य ध्यान दिया गया है।इनमें मृदा संरक्षण, जल संसाधनों का विकास, सक्षम महीला समूहों के माध्यम से महिला सशक्तिकरण, प्रशिक्षण, कौशल विकास, बकरी पालन,  मुर्गी पालन,  केंचुआ पालन, सामुदायिक नर्सरी आदि जैसे आय-सृजन कार्यक्रम शामिल हैं। , हम आदिवासियों को टिकाऊ कृषि के साथ-साथ प्रौद्योगिकी और नवाचार अपनाने के माध्यम से उनकी कृषि क्षमताओं को बढ़ाने में मदद करना चाहते हैं। उपस्थित किसानों ने वाडीपरियोजना के विभिन्न पहलुओं पर ज्ञान प्राप्त किया। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए वागधरा के क्षत्रिय सहजकर्ता विकास मेश्राम, सहजकर्ता सुरेस पटेल  ,कांता डामोर, सरदार कटारा  ,रामू महाराज,अमृलाल,कालीदेवी ,ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई

कोई टिप्पणी नहीं: