मीडिया चौपाल-2022' में देश के तीन कुलपतियों का होगा सान्निध्य प्राप्त - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 29 नवंबर 2022

मीडिया चौपाल-2022' में देश के तीन कुलपतियों का होगा सान्निध्य प्राप्त

Media--chaupal-2022
चंडीगढ़, विदित है कि दि. 02-04 दिसम्बर 2022 को एनआईटीटीटीआर, चंडीगढ़ में 'मीडिया चौपाल' आयोजित हो रहा है। यह आयोजन इस दृष्टि से महत्वपूर्ण हो जाता है कि इसके माध्यम से देश भर के लगभग 500 संचारकर्मी, संचारविद एकत्रित आयेंगे और भारत की स्वतंत्रता के अमृतकाल में संचार की भूमिका को अत्यधिक अर्थपूर्ण बनाने के लिए मंथन करेंगे। यह 'मीडिया चौपाल-2022' इस कारण अत्यधिक विशिष्ट एवं प्रभावकारी होने जा रहा है क्योंकि इसमें देश के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों के तीन कुलपतियों का सान्निध्य प्राप्त होगा। चौपाल के पहले दिन, 02 दिसंबर (शुक्रवार) को 'अमृतकाल में संचार-शिक्षा : भारतीय दृष्टि' विषय पर 'अकादमिक चौपाल' होगा। इसमें हरियाणा उच्च शिक्षा परिषद् के अध्यक्ष प्रो. बृज किशोर कुठियाला ; कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, रायपुर के कुलपति प्रो. बलदेव भाई शर्मा ; माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल के कुलपति प्रो. के. जी. सुरेश का सान्निध्य और मार्गदर्शन प्राप्त होगा।    'मीडिया चौपाल' का आरम्भ 21वीं सदी के दूसरे दशक में तब हुआ, जब मीडिया में स्पष्ट बिखराव दिखायी देने लगा था और मीडिया हाउस का एकाधिकार सा उत्पन्न हो गया था। इसी समय के दौरान नव-संचार माध्यम जनतांत्रिक भाव से जनाकांक्षाओं की पूर्ति करने का कार्य करने में जुट गये थे। इस संक्रांति काल ने अकादमिक जगत में मीडिया की शिक्षा और अनुसंधान को भी प्रभावित किया। ऐसे में अकादमिक जनसंचार अनुसंधान में भारतीय दृष्टि का समन्वय करना गंभीर रूप से चिंतनीय विषय था। 'मीडिया चौपाल' में तब से लेकर आज तक भारतोन्मुखी नव-नवीन विषयों पर विमर्श हो रहा है। इस वर्ष पत्रकारिता से जुड़े कुलपतियों की सहभागिता और सान्निध्य जनसंचार में नये विमर्श और नये मुद्दों को गति प्रदान करेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: