राजगीर : मलमास मेला के आयोजन तैयारी को लेकर डीएम की अध्यक्षता में बैठक - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

गुरुवार, 15 दिसंबर 2022

राजगीर : मलमास मेला के आयोजन तैयारी को लेकर डीएम की अध्यक्षता में बैठक

  • राजगीर में मलमास मेला के आयोजन पूर्व तैयारी को लेकर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में बैठक श्रद्धालुओं के लिए की जाएगी समुचित व्यवस्था
  • माननीय मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार सरस्वती नदी की साफ-सफाई,  सरस्वती कुंड/घाट के जीर्णोद्धार,कुण्ड क्षेत्र में प्रतीक्षा हॉल एवं श्रद्धालुओं के लिए शेड के निर्माण के लिए कवायद शुरू, इसके लिए जल संसाधन विभाग एवं भवन निर्माण विभाग द्वारा प्रक्रिया शुरू

Rajgir-malmas
नालंदा. जुलाई-अगस्त 2023 में राजगीर में मलमास मेला का आयोजन निर्धारित है.मेला का शुभारंभ 18 जुलाई 2023 को निर्धारित है.मलमास मेला की पूर्व तैयारी को लेकर आज जिलाधिकारी श्री शशांक शुभंकर ने राजगीर इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर (आरआईसीसी) के सभागार में संबंधित पदाधिकारियों, स्थानीय पंडा समिति एवं राजगीर के गणमान्य नागरिकों के साथ बैठक किया. पंडा समिति के सदस्यों एवं स्थानीय नागरिकों द्वारा पूर्व के अनुभवों के आधार पर आवश्यक फ़ीडबैक एवं सुझाव दिया गया. पंडा समिति के प्रतिनिधियों द्वारा मलमास मेला की अवधि में एकादशी, महाशिवरात्रि आदि जैसे महत्वपूर्ण तिथियों के बारे में जानकारी दी गई तथा इन तिथियों को श्रद्धालुओं के अधिक भीड़ होने की संभावना के आलोक में समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करने का अनुरोध किया गया. मेला अवधि में कुण्ड क्षेत्र से अतिक्रमण हटाने, श्रद्धालुओं को पंक्तिबद्ध रखने के लिए ज़िग-जैग क्यू मैनेजर की व्यवस्था, वर्षा ऋतु को देखते हुए वाटरप्रूफ़ टेंट/पंडाल की व्यवस्था आदि बातें संज्ञान में लाई गई.भरत कुण्ड, शालिग्राम कुण्ड एवं दुखहरणी कुण्ड के लिए सुगम पहुंचपथ के लिए भी अनुरोध किया गया.सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में विशेष साफ-सफाई की व्यवस्था, भवनों का रंग रोगन आदि कराने का भी अनुरोध किया गया.श्रद्धालुओं एवं संतों के आवासन के लिए टेंट आदि की व्यवस्था की जाएगी. मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार द्वारा दिये गए निर्देश के आलोक में सरस्वती नदी की साफ सफाई एवं सरस्वती कुण्ड तथा घाट के जीर्णोद्धार के लिए जल संसाधन विभाग द्वारा कार्रवाई की जा रही है. मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार कुण्ड क्षेत्र में श्रद्धालुओं के लिए प्रतीक्षालय हॉल तथा शेड के निर्माण के लिए भी भवन निर्माण विभाग द्वारा कवायद शुरू की गई है. कार्यपालक अभियंता भवन प्रमंडल को इन संरचनाओं के निर्माण एवं कुण्ड क्षेत्र के पूर्व निर्मित संरचनाओं के मरम्मती कार्य के लिए अविलंब प्राक्कलन तैयार करने का निर्देश दिया गया. कार्यपालक अभियंता पीएचईडी को संपूर्ण मेला क्षेत्र में पाइपलाइन जलापूर्ति को व्यवस्थित एवं क्रियाशील रखने का निर्देश दिया गया. मेला आयोजन के अवसर पर विभिन्न कार्यों के लिए निविदा के माध्यम से एजेंसी का चयन किया जाएगा। इसके लिए विस्तृत कार्य योजना के साथ पूर्व तैयारी सुनिश्चित करने को कहा गया.उप विकास आयुक्त अपने पर्यवेक्षण में निविदा संबंधी कार्य का निष्पादन कराएंगे. मेला अवधि में मेला सैरात मैदान की बंदोबस्ती का कार्य अपर समाहर्ता अपने पर्यवेक्षण में सुनिश्चित कराएंगे. जिलाधिकारी ने इस संबंध में सभी संबंधित विभाग के पदाधिकारियों को निर्धारित समय सीमा के अंतर्गत वांछित कार्रवाई सुनिश्चित करने को कहा.जिलाधिकारी ने कहा कि मेला अवधि में विभिन्न कार्यों के सफल क्रियान्वयन एवं पर्यवेक्षण के लिए जिला स्तर पर विभिन्न कोषांगों का गठन किया जाएगा.मेला आयोजन को लेकर पूर्व तैयारी के लिए दिए गए निर्देशों के अनुपालन की समीक्षा के लिए निरंतर अवधि पर बैठक की जाएगी. बैठक में उप विकास आयुक्त, अपर समाहर्ता, अनुमंडल पदाधिकारी राजगीर, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी राजगीर, जिला परिवहन पदाधिकारी, जिला पंचायत राज पदाधिकारी, नजारत उप समाहर्ता, कार्यपालक अभियंता भवन/ पीएचइडी/ग्रामीण कार्य विभाग/ पथ निर्माण विभाग, पंडा समिति के सदस्यगण तथा राजगीर के गणमान्य नागरिकगण उपस्थित थे.

कोई टिप्पणी नहीं: