बिहार : आर्यावर्त के पूर्व संपादक काशी कांत झा का निधन - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

रविवार, 25 दिसंबर 2022

बिहार : आर्यावर्त के पूर्व संपादक काशी कांत झा का निधन

Bihar-ex-journalist-kashi-kant-jha-died
पटना : हिंदी दैनिक समाचारपत्र आर्यावर्त के साहित्य संपादक, समाचार संपादक, सहायक संपादक एवं संपादकीय विभाग के प्रभारी के रूप अपना योगदान देने वाले काशी कांत झा का रविवार को निधन हो गया। बिहार की पत्रकारिता के सशस्त हस्ताक्षर रहे काशी कांत झा मूलरूप से दरभंगा के रहने वाले थे। सन 1939 में , सुंदरपुर वीरा, दरभंगा में जन्मे काशीकान्त झा अपनी प्रारम्भिक शिक्षा के बाद उच्चा शिक्षा के लिए पटना आए। पटना विश्वविद्यालय से 1963 में एम.ए. (हिंदी) पूर्ण करने के पश्चात बतौर शिक्षक/ प्राध्यापक के रूप में उन्हें कई अवसर मिले। परंतु, छात्र जीवन से ही विभिन्न साहित्यिक गतिविधियों में भाग लेने में अभिरुचि और पटना विश्वविद्यालय के हिंदी साहित्य परिषद् में प्रचार मंत्री के रूप में कार्य का अनुभव के साथ साथ पत्रकारिता में रूझान के चलते उन्होंने अपना स्थान इस क्षेत्र में बनाया। दैनिक आर्यावर्त में जयकांत मिश्र, शंभुनाथ झा, आदि ख्यातिप्राप्त गुणी संपादकों के साथ उन्होंने कार्य किए। दरभंगा से प्रकाशित मासिक साहित्यिक पत्रिका ‘विदेह’ के संपादक के रूप में भी कार्य किया। बतौर संपादक उन्होंने पटना से प्रकाशित पाक्षिक हिंदी समाचार पत्रिका ‘अभिनव बिहार’ (आर्यावर्त- इंडियन नेशन पत्र समूह का एक प्रकाशन) में भी अपना योगदान दिया। वे अपने पीछे पत्नी, तीन पुत्र पुत्रवधु एवं पौत्र छोड़ गए हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: