मधुबनी : कोविड संक्रमण की संभावित खतरों से निपटने को लेकर जिला प्रशासन ने कसी कमर। - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 27 दिसंबर 2022

मधुबनी : कोविड संक्रमण की संभावित खतरों से निपटने को लेकर जिला प्रशासन ने कसी कमर।

  • प्रभारी जिलाधिकारी विशाल राज  ने सदर अस्पताल पहुँचकर तैयारियों का लिया जायजा।
  • जिलाधिकारी ने जिलेवासियों से अपील करते हुए कहा है कि जिन लोगों ने कोरोना वैक्सिनेशन पहला, दूसरा या बूस्टर डोज नहीं लिया है,वे अविलम्ब डोज लेना सुनिश्चित करे।

Madhubani-ready-for-covid
मधुबनी, कोविड संक्रमण की संभावित खतरों से निपटने को लेकर जिला प्रशासन ने  कमर कस ली है। प्रभारी जिला पदाधिकारी सह उप विकास आयुक्त, विशाल राज द्वारा आज  कोविड संक्रमण के विरुद्ध जिले में स्वास्थ्य विभाग की तैयारियों का जायजा लेने के क्रम में सदर अस्पताल, मधुबनी का निरीक्षण किया गया। उन्होंने उपस्थित अधिकारियों से कहा कि देश के विभिन्न हिस्सों से कोरोना संक्रमण के एक बार पुनः पांव पसारने की खबरें आ रही हैं। ऐसे में स्वास्थ्य महकमे को एक बार फिर से अलर्ट मोड में कार्य आरंभ करने की जरूरत है। इस कड़ी में आज सदर अस्पताल के अंतर्गत कोरोना के मामले आने पर मरीजों को मुहैया कराई जाने वाली सुविधाओं का जायजा लिया गया है।  बताते चलें कि उप विकास आयुक्त द्वारा सदर अस्पताल के पीएसए प्लांट का निरीक्षण किया गया जहां 1000 एलपीएम एवं 94.6% कंसट्रेशन  की क्षमता से मशीन कार्यरत पाया गया। मौके पर उप विकास आयुक्त के समक्ष कोरोना संक्रमित मरीज के सदर अस्पताल आने पर चिकित्सकों और अन्य स्वास्थ्य कर्मियों के क्विक रिस्पॉन्स के मॉक ड्रिल का जायजा भी लिया गया। उप विकास आयुक्त ने सदर अस्पताल के मुख्य द्वार के पास निर्माणाधीन फैब्रिकेटेड वार्ड का निरीक्षण भी किया गया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने बताया कि वर्तमान में सदर अस्पताल में 80 बेड की सुविधा उपलब्ध है। नए फैब्रिकेटेड वार्ड के निर्माण से 50 नए पूर्ण सुविधा युक्त बेड की सुविधा भी उपलब्ध हो जाएगी। उन्होंने कहा कि कार्य करने वाले एजेंसी को इसे अगले पंद्रह दिनों में पूर्ण निर्मित कर सौंपने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि वर्तमान में यहां कोरोना का किट व दवाइयां पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। सदर अस्पताल सहित सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण का कार्य एवं जांच की रूटीन व्यवस्था सुचारू रूप से चल रही है।  फिलहाल जिले में प्रतिदिन औसतन एक हजार आरटीपीसीआर जांच की जा रही है और कोरोना के कोई भी मरीज नहीं हैं। आने वाले दिनों में जांच एवं टीकाकरण का दायरा बढ़ाने के निर्देश दिए जा रहे हैं। उप विकास आयुक्त ने जिलेवासियों से अपील करते हुए कहा है कि जिन लोगों ने कोरोना वैक्सिनेशन पहला, दूसरा या बूस्टर डोज नहीं लिया है, वह अपने और अपने लोगों के हित में जल्द से जल्द कोरोना से प्रतिरक्षा को आवश्यक मानते हुए वैक्सिनेशन करवा लें। उक्त अवसर पर सिविल सर्जन, ऋषिकांत पांडेय, अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी, आर के सिंह, अस्पताल अधीक्षक, राजीव रंजन, एनसीडीओ, एस पी सिंह, चिकित्सक, संजीव कुमार झा, हेल्थ मैनेजर, अब्दुल मजीद, आईडीएसपी अपिडजीयोलॉजीस्ट, अनिल कुमार चक्रवर्ती, सहित अन्य अधिकारी व कर्मी उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: