मधुबनी : लटक कर चल रही रेलवे की व्यवस्था - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 14 दिसंबर 2022

मधुबनी : लटक कर चल रही रेलवे की व्यवस्था

  • दरभंगा-जयनगर रेलखंड : 13 स्टेशनों पर ट्रेन के डब्बे से 3.5 फीट नीचे है प्लेटफॉर्म।

Darbhanga-jaynagar-rail
मधुबनी, दरभंगा-जयनगर रेलखंड को बड़ी लाइन में तब्दील हुए 15 वर्ष से अधिक का समय हो गया है, लेकिन अब तक इस रेलखंड के 13 महत्वपूर्ण स्टेशनों के प्लेटफॉर्म को ऊंचा करने का कार्य नहीं किया गया है। स्टेशनों का प्लेटफॉर्म बड़ी लाइन के मानक अनुरूप ऊंचा नहीं किए जाने से यात्रियों को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है। खासकर महिलाओं, बुजुर्ग, बच्चों को इससे हमेशा दुर्घटना का आशंका बना रहता है। इन 13 स्टेशनों में से कुछ स्टेशनों पर तो रोजाना हजारों की संख्या में यात्री चढ़ते और उतरते हैं। इस दौरान यात्रियों को उतरते समय खासतौर पर ट्रेन के उतरने वाले सीढ़ियों से फिसल कर गिरने का खतरा बना रहता है। इस रेलखंड पर 6 हाल्ट हैं। इन पर किसी भी तरह की यात्री सुविधा नहीं है। दरभंगा जयनगर रेल खण्ड के काकरघटी, बिजुली होल्ट, तारसराय, शाहिद सूरज नारायण सिंह हाल्ट, उगना हॉल्ट, पंडौल, सीलमपुर होल्ट, मंगरपट्टी हॉल्ट, राजनगर, ललित लक्ष्मीपुर, खजौली, कोरहिया में बड़ी रेल लाइन के मानक के अनुरूप नहीं है प्लेटफॉर्म। वहीं इनमें से राजनगर, पंडौल, खजौली ये तीन स्टेशन ऐसे हैं जहां कुछ एक्सप्रेस ट्रेनों का भी ठहराव बहुत ही कम समय के लिए होता है। इस दौरान यात्री आननफानन में जल्द उतरने के चक्कर मे चोटिल भी हो जाते हैं। इनमें खासतौर पर बच्चों के साथ उतरने वाले परिवार व बुजुर्गों को सबसे अधिक परेशानी का सामना करना पड़ता है।

कोई टिप्पणी नहीं: