बिहार : उप याजक सिरिल लकड़ा का पुरोहिताभिषेक समाराेह 30 दिसंबर को - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 27 दिसंबर 2022

बिहार : उप याजक सिरिल लकड़ा का पुरोहिताभिषेक समाराेह 30 दिसंबर को

  • अंबिकापुर धर्मप्रांत के बिशप एंटोनिस बारा,डीडी के करकमलों से साढ़े बजे से पुरोहिताभिषेक समारोह संत पीटर चर्च,कंडाखर में         
  • 31 दिसंबर को साढ़े बजे से नव अभिषेसिक्त फादर सिरिल लकड़ा पहली बार झालपी, महाराजगंज,बलरामपुर में अनुष्ठान अर्पित करेंगे

Siril-lakra-bihar
पटना. राजधानी पटना में कुर्जी पल्ली है.यह पटना महाधर्मप्रांत का बिग पल्ली है.इस पल्ली का संचालन पटना जेसुइट प्रोविंश के द्वारा होता है.इधर देखा जा रहा है कि कुर्जी पल्ली में उप याजकों अनुभव प्राप्त करने के लिए आते है.यह भी सत्य है कि पटना महाधर्मप्रांत में जेसुइटों द्वारा संचालित पल्ली गिने-चुने ही रह गया है,जहां पर  जेसुइट पुरोहितों के द्वारा उप याजकों को बेहतर ढंग से प्रशिक्षण दिया जा सके. यहां पर उप याजक राजेश आए थे.उनका पुरोहिताभिषेक संत जेवियर हाई स्कूल पटना में हुआ था.उसके बाद उप याजक राजीव रंजन आए थे.उनका पुरोहिताभिषेक बक्सर में हुआ. दोनों पटना प्रोविंश के पुरोहित हैं.इस समय फादर राजीव रंजन पुर्णे में हैं.  आज सोमवार को कुर्जी पल्ली में उप याजक सिरिल लकड़ा का टर्म पूरा करने के बाद अंबिकापुर धर्मप्रांत जाने के लिए रवाना हो गए.जाने के पहले उप याजक सिरिल लकड़ा ने कहा कि शाम में बस पकड़ लिए.सुबह अंबिकापुर पहुंच जाएंगे. उन्होंने कहा कि 30 दिसंबर को पुरोहिताभिषेक होगा. अंबिकापुर धर्मप्रांत के बिशप एंटोनिस बारा,डीडी के करकमलों से साढ़े बजे से पुरोहिताभिषेक समारोह संत पीटर चर्च,कंडाखर में होगा.  उन्होंने कहा कि 31 दिसंबर को साढ़े बजे से पहली बार झालपी, महाराजगंज, बलरामपुर में अनुष्ठान अर्पित करेंगे. फादर सिरिल लकड़ा ने कहा कि दिल्ली प्रोविंश के हैं. बताया जाता है कि धर्मिक धर्मसमाज में प्रवेश  करने के बाद एक साल भाषा आदि की पढ़ाई.दो साल नवशिष्यालय में व्यक्तित करने के बाद दर्शनशास्त्र और तर्कशास्त्र की पढ़ाई की जाती है.उसी दौरान उच्च शिक्षा ग्रहण की जाती है.कुल मिलाकर तेरह साल तय हो जाता है.

कोई टिप्पणी नहीं: