मधुबनी : शीतलांबर ने जिले के विभिन्न उद्योगों को शीघ्र चालू करने की मांग की - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 13 जनवरी 2023

मधुबनी : शीतलांबर ने जिले के विभिन्न उद्योगों को शीघ्र चालू करने की मांग की

Madhubani-congress-dimand-cm
मधुबनी, समाधान यात्रा पर मधुबनी के सौराठ आए बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार से जिला कांग्रेस कमिटी मधुबनी के जिलाध्यक्ष प्रो शीतलाम्बर झा के नेतृत्व में दस सदस्यीय शिष्टमंडल ने मिलकर जिले के बन्द परे उद्योग रैयाम,लोहट एवं सकरी चीनी मिलें एवं पंडौल सुता फैक्टरी, गुलकोज फैक्ट्री, सकरी के चमड़ा, खपरा उद्योगों एवं वित्त सहित डिग्री एवं इंटर कॉलेजों के  शिक्षकों एवं शिक्षकेत्तर कर्मचारियों के समस्याओं को लेकर स्मारपत्र सौंपकर अविलंब आवश्यक कार्रवाई करने की मांग किया है। प्रो झा ने अपने स्मारपत्र मे उल्लेख करते हुए कहा है कि जिला के किसानों एवं मजदूरों के लिए एकमात्र नगदी का साधन चीनी मिलें था जो उन्नीस सौ नब्बे से बन्द है जिससे जिला के किसानों को आमदनी का जरिया खत्म हो जाने से शादी विवाह ,बच्चों का शिक्षा ,श्रध्दकर्म  एवं अन्य मांगलिक कार्यों में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है इसलिए जिलावासियों के वयापक हित मे बन्द परे चीनी मिलें एवं सुता फैक्ट्री को प्राथमिकता के आधार पर चलाने के दिशा में आवश्यक कदम उठाया जाय । प्रो झा ने वित्त सहित डिग्री एवं इंटर कॉलेजों के शिक्षकों एवं शिक्षकेत्तर कर्मचारियों के समस्याओं का उल्लेख करते हुए कहा है बिहार के उच्च शिक्षा इन्ही शिक्षकों के कंधों पर ही है लेकिन ये शिक्षक आज भुखमरी के शिकार है प्रो झा ने मुख्यमंत्री से मांग किया है कि कम से कम वित्त सहित शिक्षकों डॉक्टरों एवं नियोजित शिक्षकों की तरह वेतनमान देने की व्यवस्था सरकार को अविलंब करना चाहिए। शिष्टमंडल में अमानुल्लाह खान, मनोज कुमार मिश्रा, ज्योति झा, अशोक कुमार, मो सबीर , फ़ैज़ी आर्यन, अविनाश झा,आलोक कुमार झा, मुकेश कुमार झा पप्पू, मोहन कुमार आदि थे।

कोई टिप्पणी नहीं: