बिहार : गोपालगंज में प्रशांत किशोर का राजनीतिक व्यवस्था पर कड़ा प्रहार, - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 17 जनवरी 2023

बिहार : गोपालगंज में प्रशांत किशोर का राजनीतिक व्यवस्था पर कड़ा प्रहार,

  • जन सुराज पदयात्रा: 108वां दिन, बोले - सबसे योग्य व्यक्ति को भी पार्टी का नेतृत्व करने के लिए 5 वर्ष ही मिलना चाहिए

Pk-attack-system-bihar
सिधवलिया, गोपालगंज, जन सुराज पदयात्रा के 108वें दिन की शुरुआत गोपालगंज के बैकुण्ठपुर प्रखंड अंतर्गत खैरा आज़म पंचायत स्थिति दुर्गा मंदिर के समीप स्थित पदयात्रा शिविर में सर्वधर्म प्रार्थना से हुई। इसके बाद प्रशांत किशोर सैकड़ों पदयात्रियों के साथ बनकटी गांव से पदयात्रा के लिए निकले। आज जन सुराज पदयात्रा गोपालगंज के रेवतीथ, बुधसी, बुचेया पंचायत होते हुए सिधवलिया प्रखंड में प्रवेश कर मोहम्मदपुर पंचायत के बाबा मैरिज हॉल में रात्री विश्राम के लिए पहुंची। प्रशांत किशोर की पदयात्रा का गोपालगंज में आज तीसरा दिन है और वे जिले में अभी लगभग 15 दिन और रुकेंगे और इस दौरान वे अलग अलग गांवों और प्रखंडों में पदयात्रा के माध्यम से जाएंगे। दिन भर की पदयात्रा के दौरान प्रशांत किशोर 5 आमसभाओं को संबोधित किया  और 6 पंचायत के 18 गांव से गुजरते हुए 19.2 किमी की पदयात्रा तय की। इसके साथ ही प्रशांत किशोर स्थानीय लोगों के साथ संवाद स्थापित किया।


पार्टी का नेतृत्व करने वाले लोगों को भी सिर्फ 5 वर्ष का ही मौका मिलना चाहिए, सचिन ही खेलते रहते तो विराट को कैसे मौका मिलता

जन सुराज पदयात्रा के दौरान रेवतीथ गांव में एक आम सभा को संबोधित करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि क्या गांधी जी बिना समाज को एकजुट किए देश को आजादी दिला सकते थे? आजादी दिलाने के लिए गांधी जी ने तो कोई दल भी नहीं बनाया था। गांधी जी आगे-आगे चले पीछे से पूरा समाज खड़ा हुआ तब जाकर उन्हें बल मिला। यही मैं आपको समझा रहा हूं कि अपने लिए अपना दल बनाइये। जन सुराज अगर दल बना तो वो बिहार का सबसे काबिल और सही लोगो का दल होगा और दल की बागडोर सबसे काबिल व्यक्ति के पास होगी, जिसे दल के सभी लोग मिलकर चुनेंगे। दल चलाने वाले काबिल से काबिल आदमी को भी सिर्फ 5 वर्ष ही मिलना चाहिए। उसके बाद दूसरे व्यक्ति को दल का नेता बनने का मौका देना चाहिए। अगर सचिन तेंदुलकर और उनका लड़का ही क्रिकेट खेलते तो विराट कोहली को मौका कब मिलता? अगर विराट कोहली ही खेलते तो रोहित शर्मा कैसे खेलते? 


रोड-नाली का होना विकास नहीं है, यह तो समस्या का समाधान है

जन सुराज पदयात्रा के दौरान रेवतीथ गांव में आम सभा को संबोधित करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि जन सुराज की विकास योजना में आपको बताया जाएगा कि आपके पंचायत में पढ़ने की व्यवस्था कैसे की जाएगी। योजना के माध्यम से बताया जाएगा कि खेती-किसानी करने वालों की आमदनी कैसे बढ़ायी जाएगी। योजना में आपको बताया जाएगा कि आपके पंचायत में 5 सौ से 1 हजार लड़कों को नए रोजगार का साधन कैसे मुहैया कराया जाएगा। आप योजना को पढ़िएगा इसके बाद मूल्यांकन कीजिएगा। अगर ठीक लगे तो अपनाये और अगर न ठीक लगे तो जिस दल को आप वोट देते आए हैं उसे देते रहिए।

कोई टिप्पणी नहीं: