दरभंगा : चार दिवसीय टीबी उन्मूलन हेतु सर्वेक्षण कार्यक्रम हुआ प्रारंभ - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

गुरुवार, 19 जनवरी 2023

दरभंगा : चार दिवसीय टीबी उन्मूलन हेतु सर्वेक्षण कार्यक्रम हुआ प्रारंभ

  • रंजुला देवी, मोहन दास, डा विनोद बैठा तथा डा आर एन चौरसिया ने संयुक्त रूप से हरी झंडी दिखाकर स्वयंसेवकों को किया रवाना

Anti-tb-caimpaign-darbhanga
दरभंगा, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा के कुलपति प्रोफेसर एस पी सिंह के निर्देश पर एनएसएस कोषांग द्वारा गोद लिए गए गांव ननौरा में चार दिवसीय टीबी उन्मूलन एवं जागरूकता हेतु स्वास्थ्य सर्वेक्षण कार्यक्रम प्रारंभ किया गया। ननौरा पंचायत की मुखिया रंजुला देवी, राजकीय उत्क्रमित मध्य विद्यालय, ननौरा के प्रधानाध्यापक मोहन दास, एनएसएस कोऑर्डिनेटर डा विनोद बैठा तथा पूर्व एनएसएस समन्वयक डा आर एन चौरसिया ने संयुक्त रूप से हरी झंडी दिखाकर राजकीय उत्क्रमित मध्य विद्यालय, ननौरा प्रांगण से स्वयंसेवकों को विभिन्न वार्डों में रवाना किया। इस अवसर पर एमआरएम कॉलेज की एनएसएस पदाधिकारी डा सगुफ्ता खानम, मारवाड़ी कॉलेज की एनएसएस पदाधिकारी डा सुनीता कुमारी, महात्मा गांधी कॉलेज के एनएसएस पदाधिकारी अविनाश कुमार, सी एम कॉलेज के एनएसएस पदाधिकारी अखिलेश कुमार राठौर, प्रशांत कुमार झा, सुनील कुमार महतो, मोहम्मद नसीम तथा विद्यालय के शिक्षक- मोहम्मद अफाक अहमद, नूतन कुमारी, संगीता कुमारी तथा मंजर आलम आदि सहित अनेक स्वयंसेवक एवं ग्रामीण उपस्थित थे। अपने संबोधन में मुखिया रंजुला देवी ने कहा कि मिथिला विश्वविद्यालय के शिक्षकों एवं छात्रों का यहां आकर समाजसेवा करना हमें बहुत अच्छा लग रहा है। हमलोग अपनी ओर से उन्हें पूरा सहयोग करते रहेंगे। पूर्व एनएसएस समन्वयक डा आर एन चौरसिया ने कहा कि कुलपति महोदय के निर्देश पर एनएसएस स्वयंसेवक टीबी उन्मूलन एवं जागरूकता कार्यक्रम हेतु इस गांव में स्वास्थ्य सर्वेक्षण कार्यक्रम में अपना सक्रिय योगदान दे रहे हैं, क्योंकि प्रधानमंत्री ने भारत को 2025 तक टीबी मुक्त देश बनाने का लक्ष्य रखा है। इस अभियान में वे आमलोगों को टीबी के प्रति जागरूक भी करेंगे। 4 दिनों के इस अभियान में स्वयंसेवक सामाजिक समस्याओं से रूबरू होंगे। उनमें नेतृत्व क्षमता, चरित्र निर्माण तथा व्यक्तित्व का विकास भी होगा। एनएसएस समन्वयक डा विनोद बैठा ने बताया कि सर्वेक्षण के दौरान यदि किसी टीबी मरीज का पता चलता है तो उन्हें कुलपति प्रोफेसर सुरेन्द्र प्रताप सिंह के निर्देशानुसार सरकारी सहायता पहुंचाने में मदद की जाएगी तथा विश्वविद्यालय की ओर से भी हर संभव मदद की जाएगी। हमारे छात्र पूरी ईमानदारी से कार्य कर रहे हैं, जिससे गांव के आमलोगों को स्वच्छता एवं स्वास्थ्य के प्रति भी जागरूकता आएगी। उन्होंने बताया कि आज पहले दिन ननौरा पंचायत की मुखिया रंजुला देवी के घर से स्वास्थ्य सर्वेक्षण कार्य प्रारंभ किया गया। ननौरा गांव के वार्ड नंबर 8 में 65, वार्ड नंबर 9 में 37 तथा वार्ड नंबर 10 में 128 परिवारों के साथ आज कुल 230 परिवारों का स्वास्थ्य सर्वेक्षण निर्धारित प्रपत्र के माध्यम से किया गया। आज के कार्यक्रम में एमआरएम कॉलेज से विशाखा कुमारी, प्रतिभा कुमारी, गुंजन कुमारी तथा छोटी कुमारी, आर बी जलन कॉलेज से अक्षय कुमार झा, प्रणव कुमार, प्रिंस कुमार तथा अभिषेक कुमार, मारवाड़ी कॉलेज से सरोज कुमार, अनीश कुमार, अमरजीत कुमार, हंस लाल कुमार, शनि कुमार, आदित्य कुमार झा एवं नितेश कुमार श्रीवास्तव, महात्मा गांधी कॉलेज से मनोज मिश्रा, मृत्युंजय चौधरी, अभिषेक कुमार, मो एहसान, रामचरण कुमार, रितिक चौधरी, आलोक कुमार साह, प्रेम कुमार राज, रेखा कुमारी, रोजी, नेहा कुमारी, चांदनी कुमारी, संजना कुमारी तथा सौम्या कर्ण, सी एम कॉलेज से दीपक कुमार तथा पीजी विभाग से राम नारायण पंडित आदि ने भाग लिया।

कोई टिप्पणी नहीं: