बिहार : सिर्फ जातिगत आधार पर वोट नहीं पड़ता : प्रशांत किशोर - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 24 जनवरी 2023

बिहार : सिर्फ जातिगत आधार पर वोट नहीं पड़ता : प्रशांत किशोर

prashant-kishore-gopalganj
बिहार में सिर्फ जाति के आधार पर लोग वोट करते हैं, इससे जुड़े एक सवाल का जवाब देते हुए प्रशांत किशोर ने बताया लोगों से ऐसी सोच बना ली है कि, बिहार का सारा समाज सिर्फ जातियों पर ही वोट करता है। उन्होंने कहा कि 2010 में नीतीश कुमार और भाजपा का गठबंधन था सामने से लालू जी, पासवान जी और कांग्रेस गठबंधन में थे। 2010 में नीतीश कुमार और भाजपा के गठबंधन को 205 सीट आई। तेजस्वी के मुकाबले लालू जी, पासवान जी बड़े लीडर थे, उसके बावजूद उस गठबंधन को लगभग 25 सीटें ही मिली थी। क्योंकि 2005-2010 के बीच सरकार के प्रति समाज के बड़े वर्ग का यह नजरिया था कि बिहार को सुधारने की प्रक्रिया शुरू की है। अगर सिर्फ जातियों की ही बात होती तो वही गठबंधन 2020 में लड़ा। नीतीश जी के साथ मोदीजी की ताकत भी साथ थी। सामने लालू जी के बजाय तेजस्वी यादव थे, चिराग तो साथ थे भी नहीं। इसके बावजूद भाजपा के गठबंधन को 120 सीट लाने में पसीने निकल गए। जब भी चुनाव होता है तो उसमें समाज के हर पहलुओं का योगदान होता है, जिसमें जाति भी एक पहलू है, लेकिन सिर्फ जाति के आधार पर पर ही वोट पड़ता है ये कहना गलत है।

कोई टिप्पणी नहीं: