बिहार : सिर्फ यशिता सिंह के नाम पर मुहर - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

गुरुवार, 9 फ़रवरी 2023

बिहार : सिर्फ यशिता सिंह के नाम पर मुहर

Only-yashita-from-bihar-wipl
पटना. राजधानी पटना के एक निजी स्कूल की दसवीं क्लास की छात्रा है.उसको क्रिकेट के गुर उसके पिता ने ही सिखाया है.बिहार क्रिकेट संघ ने बीसीसीआई को बिहार की 15 महिला क्रिकेटरों के नाम भी भेजे गए थे. जिनमें से सिर्फ यशिता सिंह के नाम पर मुहर लगी है. वीमेंस आईपीएल का आक्शन 13 फरवरी को होने जा रहा है.इसके लिए दुनिया भर से 350 महिला क्रिकेटरों का चयन किया गया है.इसमें राजधानी पटना के आशियाना नगर की रहने वाली 16 वर्षीय यशिता सिंह भी शामिल है.वह अपने प्रदर्शन की बदौलत सेलेक्टरों का ध्यान आकर्षित कर यह मुकाम हासिल किया है.  बिहार की बेटियां हर क्षेत्र में अपना नाम बना रही हैं. पूरी दुनिया भर में अपने हुनर का डंका बजा रही हैं. राजधानी पटना के आशियाना नगर की रहने वाली 16 वर्षीय यशिता ने क्रिकेट की दुनिया में कुछ ऐसी ही उपलब्धि हासिल की है. उनका चयन पहली बार होने जा रहे वीमेंस आईपीएल के ऑक्शन के लिये हुआ है. दुनिया भर से चुनी गई 350 महिला क्रिकेटरों में से यशिता सिंह ने भी अपने प्रदर्शन की बदौलत सेलेक्टरों का ध्यान आकर्षित कर यह मुकाम हासिल किया है. महिला आईपीएल की नीलामी 13 फरवरी को होने वाली है. इस नीलामी में बिहार की 15 महिला क्रिकेटरों के नाम भी भेजे गए थे. जिनमें से सिर्फ यशिता के नाम पर मुहर लगी है.बिहार क्रिकेट संघ ने बीसीसीआई को मिले पत्र के आधार पर यह जानकारी दी. बीसीसीआई की महिला अंडर-19 टी20 चैलेंजर ट्रॉफी में खेलने वाली यशिता की कहानी साल 2016 में रिलीज हुई आमिर खान की फिल्म दंगल से मिलती-जुलती है. यशिता पटना के एक निजी स्कूल की 10वीं कक्षा की छात्रा हैं. यशिता की बचपन से ही क्रिकेट में रुचि थी. यशिता के पटना से बीसीसीआई तक के सफर की कहानी जानकर आप दंग रह जाएंगे. यशिता को क्रिकेट सिखाने वाला कोई प्रोफेशनल कोच नहीं बल्कि उनके पिता शैलेंद्र सिंह हैं. शैलेंद्र सिंह ने अपनी बेटी को स्कूल भेजने के साथ-साथ क्रिकेट का अभ्यास कराने पर जोर दिया.यही वजह है कि यशिता ने 50 से ज्यादा बोर्ड मैचों में अच्छा प्रदर्शन किया.यशिता ने इस साल जुलाई में हुई सीरीज में छह मैच खेले, जिसमें कुल 222 रन बनाए.मैच में नागालैंड के खिलाफ बेहतर प्रदर्शन करते हुए उन्होंने 138 रन बनाए.इसके बाद यशिता टॉप फाइव में आईं और बीसीसीआई में सेलेक्ट हो गईं. बताते है कि यशिता सिंह बचपन से ही क्रिकेट में दिलचस्पी रखती थीं. खुद यशिता ने खुलासा करते हुए कहा कि मैं और मेरे भाई अपार्टमेंट में लोगों के साथ क्रिकेट खेलते थे, लेकिन मैं टेनिस ज्यादा खेलता था.पापा हमेशा मेरे खेल पर ध्यान देते थे और वह मुझे क्रिकेट खेलने के लिए प्रेरित करते थे. उन्होंने 2019 में पटना के मोइनुल हक स्टेडियम में होने वाले टूर्नामेंट में भाग लेने के लिए कहा. मैंने भाग लिया और मेरा प्रदर्शन अच्छा रहा.यशिता ने आगे कहा कि इसके बाद खेलों में मेरी दिलचस्पी और बढ़ गई.मैंने क्रिकेट पर विशेष ध्यान देना शुरू किया.दो साल की मेहनत से चैलेंजर ट्रॉफी में अपनी जगह बनाई. उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय पिता शैलेंद्र सिंह को दिया. यशिता के पिता शैलेंद्र सिंह पटना यूनिवर्सिटी के छात्र रहे हैं. वह विश्वविद्यालय में क्रिकेट चैंपियन थे.हालांकि उन्हें कभी बोर्ड में खेलने का मौका नहीं मिला. उनका सपना था कि उनके बच्चे वह करें जो मैं नहीं कर सका.वे अपनी बेटी को क्रिकेट में बीसीसीआई में ले गए. उसने जीवन यापन के लिए टाइल्स, मार्बल का कारोबार शुरू किया, लेकिन कोरोना में कारोबार पूरी तरह ठप हो गया. इसके बाद शैलेंद्र सिंह अपने दोस्त की एक एकेडमी में बतौर क्रिकेट कोच काम करने लगे.बच्चों को क्रिकेट पढ़ाना शुरू किया.अभी वह करीब 30 बच्चों को क्रिकेट की ट्रेनिंग देते हैं.  बता दें कि यह साल क्रिकेट के लिए काफी खास रहने वाला है. 2023 में क्रिकेट के कई बड़े टूर्नामेंट्स होने हैं. इसमें वनडे वर्ल्ड कप 2023 (World Cup 2023) से लेकर पहली बार आयोजित होने वाला महिला आईपीएल (Women's IPL) भी शामिल हैं. बीसीसीआई (BCCI) की तरफ से इस साल पहली बारी महिला आईपीएल का आयोजन होगा. महिला आईपीएल की टीमों का एलान हो गया है.पांच टीमों को खरीदने में 4669.99 करोड़ रुपये की बोली लगी है. अहमदाबाद फ्रेंचाइजी सबसे महंगी बिकी है.अदाणी की मालिकाना हक वाली अदाणी स्पोर्ट्स लाइन प्राइवेट लिमिटेड ने अहमदाबाद फ्रेंचाइजी अपने नाम की है. उन्होंने इसे 1289 करोड़ रुपये में खरीदा है.यह महिला आईपीएल की सबसे महंगी टीम बन गई है.इसके बाद इंडियाविन स्पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड,मुंबई, 912.99 करोड़ में.रॉयल चैलेंजर्स स्पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड, बेंगलुरु, 901 करोड़ में. जेएसडब्ल्यू जीएमआर क्रिकेट प्राइवेट लिमिटेड, दिल्ली, 810 करोड़ में और कैपरी ग्लोबल होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड,लखनऊ, 757 करोड़ में खरीदा है. 

महिला आईपीएल का पहला सीजन 4 से 26 मार्च के बीच खेला जा सकता है.इसके बाद पुरुष खिलाड़ियों का आईपीएल खेला जाएगा.टूर्नामेंट के पहले सीजन के लिए मीडिया राइट्स की बिक्री हो चुकी है.वायाकॉम 18 ने 951 करोड़ रुपये में पांच साल के लिए प्रसारण अधिकार खरीदे थे. अब इस टूर्नामेंट को लेकर ताजा जानकारी यह सामने आ रही है कि चार मार्च को टूर्नामेंट का आगाज हो सकता है और उसी महीने की 26 तारीख को फाइनल मुकाबला खेला जा सकता है.

कोई टिप्पणी नहीं: