मेवाड़ में मूट कोर्ट प्रतियोगिता आयोजित,विद्यार्थियों की 11 टीमों ने लिया भाग - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा । हृदय राखि कौशलपुर राजा।। -- मंगल भवन अमंगल हारी। द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी ।। -- सब नर करहिं परस्पर प्रीति । चलहिं स्वधर्म निरत श्रुतिनीति ।। -- तेहि अवसर सुनि शिव धनु भंगा । आयउ भृगुकुल कमल पतंगा।। -- राजिव नयन धरैधनु सायक । भगत विपत्ति भंजनु सुखदायक।। -- अनुचित बहुत कहेउं अग्याता । छमहु क्षमा मंदिर दोउ भ्राता।। -- हरि अनन्त हरि कथा अनन्ता। कहहि सुनहि बहुविधि सब संता। -- साधक नाम जपहिं लय लाएं। होहिं सिद्ध अनिमादिक पाएं।। -- अतिथि पूज्य प्रियतम पुरारि के । कामद धन दारिद्र दवारिके।।

गुरुवार, 19 अक्तूबर 2023

मेवाड़ में मूट कोर्ट प्रतियोगिता आयोजित,विद्यार्थियों की 11 टीमों ने लिया भाग

Mewad-institute-ghaziabad
गाजियाबाद। वसुंधरा स्थित मेवाड़ लॉ इंस्टीट्यूट की ओर से आयोजित मूट कोर्ट प्रतियोगिता में विद्यार्थियों की 11 टीमों ने भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 302 और 34 पर जोरदार बहस की। कानूनी उदाहरणों के साथ इनके पक्ष-विपक्ष में अपने तर्क पेश किये। जिसके आधार पर अपीलकर्ता पक्ष से दो और प्रतिवादी पक्ष से भी दो विजेता घोषित किये गये। वादी पक्ष की टीमों में प्रतीक्षा वत्स, श्रेया प्रकाश व अनुष्का राय टीम और प्रतिवादी पक्ष से अक्षत मोगा, अदिति जैन व सूर्य प्रताप टीम प्रथम घोषित की गई। जबकि वादी पक्ष से रुहानी मलिक, आराध्या श्री व मानसी वरदिया टीम एवं मोहम्मद अमजद व करिश्मा ढींगरा टीम द्वितीय स्थान पर रही। सर्वश्रेष्ठ वक्ता प्रसन्न भारद्वाज रहे। स्पेशल मेट्रोपोलिटन जज सेवानिवृत्त मसूद रजा और सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता अमन नरेश मूट कोर्ट प्रतियोगिता के जज रहे। प्रतियोगिता की संयोजिका सहायक प्रोफेसर श्रेया अग्रवाल एवं सह-संयोजक शिवम सिंह थे। प्रतियोगिता के निर्णायकों ने अपने सम्बोधन में प्रतिभागियों का उत्साहवर्द्धन किया। उन्हें उनकी ताकत और कमियों के बारे में बताया।

कोई टिप्पणी नहीं: