बिहार के विकास के झूठे दावे. - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 27 जुलाई 2012

बिहार के विकास के झूठे दावे.


आज बिहार का नाम देश के सबसे तेजी से विकास करने वाले राज्यों में आता है. किंतु यदि तेजी से विकास करने वाले इस राज्य की राजधानी पटना की बात की जाये तो ऐसा नहीं लगता. पटना के निबंधन कार्यालय की बिल्डिंग जर्जर घोषित हो गई है. यहाँ रखे महत्वपूर्ण दस्तावेज सही ढंग से देखरेख न होने के कारण खराब हो रहे है. निबंधन कार्यालय में ये दस्तावेज ब्रिटिशकाल से ही रखे गये है. 

पटना में ज्यादातर झगड़े जमीन से जुड़े ही होते हैं, ऐसे में इन दस्तावेजों की कितनी महत्ता है ये समझने वाली बात है और ये दस्तावेज धूल और पानी में सड़ रहे हैं. सरकार विकास के बड़े-बड़े दावे करती है. सुशासन,पेपरलेस कार्यालयों और ई-गवर्नेंस की बातें करती है, लेकिन अठाहरवी सदी से रखे हुए इन दस्तावेजों (जोकि अब सङ रहे हैं) की ओर किसी का ध्यान नहीं है. साथ ही राज्य सरकार को इसके लिए जमीन भी नहीं मिल रही. 
  

कोई टिप्पणी नहीं: