मद्य निषेध विधेयक में सजा के कड़े प्रावधानों पर माले विधायकों ने जताई कड़ी आपत्ति - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 1 अगस्त 2016

मद्य निषेध विधेयक में सजा के कड़े प्रावधानों पर माले विधायकों ने जताई कड़ी आपत्ति

  • डैªक्नोयिन कानून बनाने से बाज आए सरकार. नीतीश के साथ बिहारी समाज को शराबी बनाने में भाजपा भी थी बराबर की भागीदारी..

cpi-ml-mla-sudama-prasad
पटना 1 अगस्त 2016, भाकपा-माले विधायक दल के नेता महबूब आलम और तरारी विधायक सुदामा प्रसाद ने आज बिहार विधान सभा में मद्य निषेध विधेयक पर चर्चा के दौरान कहा कि नीतीश कुमार ने पहले पूरे बिहार को शराबी बनाया और अब शराबबंदी पर राजनीति कर रहे हैं. जबकि भाकपा-माले ही एक मात्र पार्टी रही है, जो लंबे समय से पूर्ण शराबबंदी के सवाल पर आंदोलनरत रही है. अपने वक्तव्य में माले विधायकांे ने कहा कि इस विधेयक में सजा के जो प्रावधान हैं, वे बेहद कड़े हैं और हमें आशंका है कि इन प्रावधानों का गरीबों के खिलाफ गलत इस्तेमाल किया जा सकता है. इसलिए ऐसे कड़े प्रस्तावों को  वापस लेना चाहिए, ताकि यह एक ड्रैकोनियन कानून न साबित हो जाए. माले विधायकों ने यह भी कहा कि भाजपा का विरोध दिखावा है. जब बिहार में नीतीश सरकार शराब का कारोबार चला रही थी, भाजपा उनके साथ थी.

कोई टिप्पणी नहीं: