झारखंड विधानसभा का बजट सत्र 17 जनवरी से - Live Aaryaavart

Breaking

बुधवार, 17 जनवरी 2018

झारखंड विधानसभा का बजट सत्र 17 जनवरी से

budget-session-jharkhand-from-17-january
रांची 16 जनवरी, झारखंड विधानसभा के कल से शुरू होने वाले बजट सत्र के हंगामेदार रहने की संभावना है। विधानसभा के औपबंधिक कार्यक्रम के अनुसार, बजट सत्र 17 जनवरी से शुरू होकर सात फरवरी तक चलेगा। बजट सत्र के पहले दिन कल राज्यपाल का अभिभाषण होगा जबकि इस पर धन्यवाद प्रस्ताव एवं वाद-विवाद के लिये 18 जनवरी की तिथि निर्धारित की गयी है। धन्यवाद प्रस्ताव पर सरकार के उत्तर और मतदान के लिये 19 जनवरी की तिथि तय की गयी है। वित्त वर्ष 2017-18 की तृतीय अनुपूरक व्यय विवरणी वाद-विवाद, मतदान सम्बन्धी विनियोग विधेयक के उपस्थापन एवं पारण के लिये 20 जनवरी की तिथि निर्धारित है। राज्य सरकार 23 जनवरी को वित्त वर्ष 2018-19 का बजट सदन में पेश करेगी तथा 24 जनवरी और 29 जनवरी को इस पर सामान्य वाद-विवाद होगा। वित्त वर्ष 2018-19 के आय व्यय की अनुदान मांगों पर चर्चा एवं उत्तर तथा मतदान के लिये 30 जनवरी, 31 जनवरी, एक फरवरी, दो फरवरी, तीन फरवरी और पांच फरवरी की तिथि तय की गयी है। राजकीय विधेयक एवं अन्य राजकीय कार्य के लिये 06 फरवरी और गैर सरकारी संकल्प के लिये सात फरवरी की तिथि तय की गयी है। बजट सत्र के दौरान सदन की कुल 15 बैठके होंगी। इस बीच विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव ने सदन के सुचारू रूप से संचालन के लिये सत्ता पक्ष और विपक्ष के सदस्यों से सहयोग करने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2017 में एक दिन भी सदन ठीक से नहीं चला इसलिये वर्ष 2018 में सदस्य इसे न दुहराये। राज्य के संसदीय कार्य मंत्री सरयू राय ने कहा कि कई राज्यों में यह प्रावधान है कि यदि सदस्य सदन के बीच में आ जायें और अध्यक्ष उसका नाम ले लें तो उस दिन उन्हें अनुपस्थित कर दिया जाता है। उन्होंने सभी सदस्यों से प्रश्नोत्तर काल शांतिपूर्ण ढंग से चलाये जाने में सहयोग का अनुरोध करते हुये कहा कि सरकार चर्चा के लिये पूरी तरह तैयार है। पूर्व मुख्यमंत्री और झारखंड विधानसभा में विपक्ष के नेता हेमंत सोरेन ने कहा कि विपक्ष इस बार मुख्यमंत्री रघुवर दास और मंत्रिमंडल के सदस्यों को जन सरोकार के मुद्दे से भागने नहीं देगा। उन्होंने कहा कि राज्य में लोग भूख से मर रहे हैं जबकि सरकार उन्हें ठंड से मरा बता रही है। राज्य का खजाना खाली है और सरकार केवल आंकड़ों का कारोबार कर रही है।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...