पूर्वोत्तर के भावनात्मक एकीकरण की कोशिश में सरकार : मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 4 मार्च 2018

पूर्वोत्तर के भावनात्मक एकीकरण की कोशिश में सरकार : मोदी

 government-trying-to-attempt-emotional-integration-with-north-east-says-modi
नई दिल्ली 4 मार्च, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि उनकी सकार पूर्वोत्तर के भावनात्मक एकीकरण की दिशा में कार्य कर रही है और एकीकरण से ही उग्रपंथी विचारों से मुकाबला किया जा सकता है। मोदी वीडियो कान्फ्रेंस के जरिए कर्नाटक के तुमाकुरु में 'यूथ पावर: ए विजन फॉर न्यू इंडिया' थीम पर आधारित युवा सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। मोदी ने कहा, "पिछले चार साल से केंद्र सरकार पूर्वोत्तर के भावनात्मक एकीकरण की दिशा में काम कर रही है और सरकार को इसमें सफलता मिली है।" तुमाकुरु में सम्मेलन का आयोजन यहां विवेकानंद आश्रम की रजत जयंती पर किया गया था, जिसे यादगार बनाने के लिए स्वामी विवेकानंद के शिकागो व्याख्यान की 125वीं वर्षगांठ और सिस्टर निवेदिता की 150वीं जयंती मनाई गई। मोदी ने कहा कि वह युवाओं से मिलकर उनकी उम्मीदों व आकांक्षाओं को जानने की कोशिश करते हैं और उस दिशा में काम करते हैं। उन्होंने कहा कि इस उत्सव का मुख्य मकसद विवेकानंद को याद करना है। उन्होंने कहा कि स्वाधीनता संग्राम के दौरान स्वतंत्रता हासिल करने के लिए विभिन्न स्तरों पर संयुक्त संकल्प लिया गया था। उन्होंने कहा कि युवाओं को अपनी ऊर्जा का उपयोग राष्ट्र निर्माण में करना चाहिए। मोदी ने युवाओं के वास्ते अवसर बढ़ाने के लिए सरकार के कदमों का जिक्र किया और कहा कि उन्होंने मुद्रा योजना, स्वरोजगार और कौशल विकास जैसे कदम उठाए। उन्होंने कहा कि आज के युवा अतीत से शिक्षा लेकर बेहतर वर्तमान और भविष्य का निर्माण करने की कामना रखते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...