उत्तर प्रदेश में बसपा सपा गठबंधन से भाजपा की सीटें कम हो सकती हैं : अठावले - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 30 मार्च 2018

उत्तर प्रदेश में बसपा सपा गठबंधन से भाजपा की सीटें कम हो सकती हैं : अठावले

sp-bsp-harm-bjp-in-up-athawale
लखनऊ, 30 मार्च, केन्द्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्यमंत्री और रिपब्लिकन पार्टी ऑफ़ इंडिया(आरपीआई) के संयोजक रामदास अठावले ने कहा कि अगर समाजवादी पार्टी(सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) का गठबंधन होता तो 2019 के आम चुनावों में यहां भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) की सीटों की संख्या कुछ कम हो सकती है। श्री अठावले ने आज यहां वीवीआईपी गेस्ट हाउस में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि गठबंधन के असर से भाजपा की सीटों की संख्या प्रदेश में 50 या इससे एक दो अधिक रह सकती है। उन्होंने कहा कि देश में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लहर अभी कायम है और दावा किया कि फिर से एनडीए की ही सरकार बनेगी और श्री मोदी ही प्रधानमंत्री बनेगे । गैर भाजपा और कांग्रेस के तीसरे मोर्चे के गठन से एनडीए को ही फायदा होगा। उन्होंने कहा कि अगर उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा का गठबंधन होता है तो भाजपा की कुछ सीटें कम होती हैं,लेकिन उसकी भरपाई पूर्वोत्तर राज्यों से हो जायेगी । उन्होंने कहा कि तीसरे मोर्चे के पास मोदी के बराबर कोई नेता नहीं है । श्री अठावले ने कहा कि जिस तरह से दलितों के हितों को ध्यान में रखते हुए वह और रामविलास पासवान एनडीए में शामिल हुए इसी तरह मायावती को भी दलितों के हित को ध्यान में रखकर एनडीए में आना चाहिए । उन्होंने कहा का लोकसभा चुनाव में भाजपा, बसपा और आरपीआई का गठबंधन होता है तो कांगेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी अपनी सीट हार सकते हैं। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चन्द्रबाबू नायडू द्वारा एनडीए छोड़ने पर उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था।
एक टिप्पणी भेजें