गहलोत बने कांग्रेस संगठन प्रभारी, द्विवेदी और हरिप्रसाद की छुट्टी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 30 मार्च 2018

गहलोत बने कांग्रेस संगठन प्रभारी, द्विवेदी और हरिप्रसाद की छुट्टी

gehlot-turned-congress-organization-in-charge-dwivedi-and-hariprasad-remove
नयी दिल्ली 30 मार्च , कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रभार संभालने के बाद पार्टी संगठन में बडा फेर बदल करते हुए आज श्री जनार्दन द्विवेदी और श्री बी के हरिप्रसाद को महासचिव पद से हटा दिया और श्री अशोक गहलोत को संगठन का प्रभार सौंप दिया। श्री द्विवेदी लंबे समय से महासचिव के रुप में संगठन प्रभार देख रहे थे। श्री गहलोत संगठन के साथ साथ प्रशिक्षण का प्रभार भी संभालेंगे। उन्हें पिछले वर्ष गुजरात विधानसभा चुनाव से पूर्व पार्टी महासचिव नियुक्त करते हुए प्रदेश का प्रभार साैंपा गया था। गुजरात चुनाव में पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन किया था और माना जा रहा है कि यह ध्यान में रखकर ही उन्हें नयी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गयी है। गुजरात का प्रभार लोकसभा सदस्य राजीव सातव को दे दिया गया है।  श्री हरिप्रसाद के स्थान पर ओडिशा का प्रभारी पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह को बनाया गया है। श्री गांधी ने संगठन में एक और परिवर्तन करते हुए श्री महेंद्र जोशी को सेवा दल के प्रमुख के पद से हटाकर श्री लालजी देसाई को यह जिम्मेदारी सौंपी है। जो अभी तक गुजरात प्रदेश इकाई में महासचिव थे। वह राज्य में किसान आंदोलन से जुडे रहे हैं और चार साल पहले ही कांग्रेस में शामिल हुए हैं। श्री गांधी ने इसी माह आयोजित कांग्रेस महाधिवेशन में स्पष्ट कर दिया था कि वह पार्टी में बड़ा फेरबदल करेंगे। उन्होंने कहा था कि संगठन में युवाओं को जगह देने के साथ ही वरिष्ठ नेताओं के अनुभव का भी फायदा उठाया जाएगा। आज जिन नेताओं को जिम्मेदारी सौंपी गयी है उनमें श्री राजीव सातव, श्री जितेंद्र सिंह तथा लालजी देसाई युवा चेहरे है जबकि श्री अशोक गहलोत अनुभवी नेता हैं।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...