हबल दूरबीन ने ब्रह्मांड में सबसे पुराने तारों के समूह की सटीक दूरी मापी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 5 अप्रैल 2018

हबल दूरबीन ने ब्रह्मांड में सबसे पुराने तारों के समूह की सटीक दूरी मापी

hubble-telescope-count-star-distance
वाशिंगटन, पांच अप्रैल,वैज्ञानिकों ने नासा की हबल अंतरिक्ष दूरबीन का इस्तेमाल कर पहली बार ब्रह्मांड में सबसे पुराने तारों के समूह में से एक की दूरी सटीकता से मापी है।13.4 अरब वर्ष पुराना तारों का यह समूह बिग बैंग घटना के तुरंत बाद बना। तारों के समूह की सटीक दूरी का पता चलने से ब्रह्मांड की उम्र का अंदाजा हो सकता है। इससे खगोल वैज्ञानिकों को तारों के क्रमिक विकास के प्रारूपों में सुधार करने में मदद मिलेगी। तारों के समूह तारकीय प्रारूपों में अहम घटक होते हैं क्योंकि प्रत्येक समूह में तारें एक समान दूरी पर होते हैं, एक जैसी उम्र के और उनकी एक समान रासायनिक संरचना होती है। तारों का यह समूह पृथ्वी के सबसे करीब समूहों में से एक है। नए माप के अनुसार तारों का समूह7,800 प्रकाश वर्ष दूर है। हबल अध्ययन का नेतृत्व करने वाले अमेरिका में स्पेस टेलीस्कोप साइंस इंस्टीट्यूट के टॉम ब्राउन ने कहा, ‘‘ गोलाकार समूह बहुत पुराने हैं, इनकी उम्र ब्रह्मांड की उम्र से भी अधिक लगती है।’’ 
एक टिप्पणी भेजें